तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

रविवार, 23 जून 2013

हे केदार नाथ

हे केदार नाथ ,
तुम कैसे भगवान ?
हम तुमसे मिलने आए थे ,
तुम्हारा आशीर्वाद लेने |
आस्था के सागर मे डूब कर
 तुम्हारा  प्रसाद लेने |
पर यह क्या किया तुमने ?
क्या बिगाड़ा था हम सब ने ?
यदि आप विनाश के स्वामी हैं |
पूर्ण अंतर्यामी हैं |
पापियों को छोड़ कर
 अपने ही भक्तों का विनाश कर डाला !
महिलायें पुरुषों और अबोध बच्चों का
 संहार कर डाला !
निर्दोषों की लाशों से भर
  लिया अपना आँगन |
आसुओं के शैलाब से डूब गया वतन |
आश्चर्य .....महान आश्चर्य !
तुम मौन होकर अपने भक्तों को ,
मरते हुये देखते रहे ?
और वे तुम्हें आखिरी सांस तक पुकारते रहे |
कहाँ चली गई  तुम्हारी दया दृष्टि ?
कहाँ चली गई  तुम्हारी अनंत शक्ति ?
भक्त के साथ विश्वाश घात हुआ है |
शायद तुमसे बहुत बड़ा पाप हुआ है |
एक ऐसा पाप ,..।
जिसे तुम अपने आप को
 शायद ही माफ कर सकोगे |
ख़ुद को  कैसे भोला कह सकोगे ?
भक्तों को नहीं बचा सकते थे
शक्ति का आभास नहीं करा सकते थे |
भक्तों से पहले तुम्हें बह जाना चाहिए था |
तुम्हारा भी मंदिर
 टुकड़ों मे बिखर जाना चाहिए था |
पर ये क्या आज के बाबाओं की तरह ,
आप भी हो गए ?
चेलों के पैसों से प्रमाद मे डूब गए ?
तुम्हारी इस शक्ति की दयनीय अवस्था पर |
कौन करेगा अब विश्वास तुम पर ?
तुम से ज्यादा भोला तो ,
आज का इंसान है |
तुमसे शक्ति शाली तो उसका ईमान है |
वह आज भी ....।
तुम्हें व तुम्हारे मंदिर के बचने पर ,
गर्वान्वित है |
तुम्हारी महिमा पर आज भी आशान्वित है |
पर याद रखो !
प्रकृति के सिद्धान्त मे यदि कर्मफल शाश्वत है |
तो तुम्हारे लिए भी दंड यथावत है |
आडंबर पाखंड का  दंड भोगना पड़ता है |
मनुष्य क्या भगवान को भी डूबना पड़ता है ||

                                                     नवीन

14 टिप्‍पणियां:

  1. भगवान को भी डूबना पड़ता है ..... सार्थक बात ... सुंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही वाजिब सवाल किये हैं त्रिपाठी जी आपने. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज रविवार (24-06-2013) को अनसुनी गुज़ारिश और तांडव शिव का : चर्चामंच 1286 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकृति हुयी क्यों क्रोधमयी जब,
    घोर हलाहल कंठ अवस्थित।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/


    उत्तर देंहटाएं

  6. घोर हलाहल कंठ अवस्थित, ताहू पे भोला रह्यो भूल्यो
    प्रकृति माता अरु आदि-शक्ति तब क्रुद्ध हुई धीरज टूट्यो|
    जलधार बनी तब आई प्रलय,इक छोर जटा को जब छूट्यो |
    छोटे बड़े या बोध-अबोध, भयो पूरौ पाप घडा फूट्यो |

    उत्तर देंहटाएं
  7. आडंबर पाखंड का दंड भोगना पड़ता है |
    मनुष्य क्या भगवान को भी डूबना पड़ता है ||

    बहुत बढ़िया,लाजबाब प्रस्तुति,,,

    Recent post: एक हमसफर चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज सबके मन में शंकाएं हैं ,क्षोभ है ,अनेक प्रश्न हैं.आपके प्रश्न जन मानस का प्रतिविम्ब है

    उत्तर देंहटाएं
  9. ईश्वर की और से मैं निरुत्तर हूँ !!
    पूछा गया हर प्रश्न वाजिब है
    पता नही ये संघार पाप था या बदला
    पर प्रकृति भी शर्मिन्दा होगी अपने इस कृत्य पर

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    हैल्थ इज वैल्थ
    पर पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अलग दृष्टि से देखा है इस त्रासदी को ... पर इंसानी कार्य की सजा तो मिलनी है ... चाहे किसी निर्दोष को मिले पर वो ऊपर बैठा सब जानता है ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सटीक प्रश्न उठाया है...लेकिन जब इंसान प्रकृति के साथ खिलवाड़ करता है तो उसका दुखद परिणाम भी अवश्यम्भावी है...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आडंबर पाखंड का दंड भोगना पड़ता है |
    मनुष्य क्या भगवान को भी डूबना पड़ता है ||
    anupam bhav sanyojan ke saath, saarthak baat kahti rachna...best wishes.

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut hi sundar rachna par jab tak ham prkrti se chedchad karte rehenge tab tak ye vinash leela hoti rehegi

    उत्तर देंहटाएं