तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

गुरुवार, 26 मार्च 2015

अमृत को झरते देखा है

---*** गीत***---

गंगा  सहज   प्रवाह  पावनी ,
अमृत  को  झरते  देखा  है ।
धवल और शीतल लहरों से,
पुरखों   को  तरते  देखा है ।

मानव  जीवन  की  कल्याणी ,
ममता  की  अद्भुद  धारा हो ।
भागीरथ  की   घोर  तपस्या ,
सर्व  नेत्र  की तुम  तारा  हो ।

मातृ स्नेह  से सदा  अलंकृत ,
प्रेम   सुधा  बहते  देखा   है ।
गंगा  सहज  प्रवाह   पावनी ,
अमृत  को  झरते  देखा  है ।।

पापों  की  अंतर   ज्वाला  पर,
नीर   नित्य   बरसाने   वाली।
मोक्ष  दायनी  बन   कर  गंगा,
कलुषित कृत्य मिटाने वाली।।

भारत  की   माटी  में  तुझसे,
स्वर्ण  सदा  उगते   देखा  है । 
गंगा  सहज   प्रवाह   पावनी,
अमृत   को  झरते  देखा  है।।

श्रद्धा   की  परिपाटी  खंडित
अब   करते   संतान   तुम्हारे ।
तेरे आँचल  को  विषाक्त कर,
गर्वान्वित  है  साँझ   सकारे।।

मिथ्या उन्नति अभिलाषा में 
मान  तेरा   बिकते  देखा  है ।
गंगा  सहज   प्रवाह   पावनी
अमृत  को  झरते   देखा  है ।।

संस्कार   के   परिधानों   को 
पहन  यहाँ  दुष्कर्म  हुआ  है ।
निर्मल  गंगा  के  मुद्दों   संग,
सिंहासन  का  मर्म  छुपा है ।।

महा  स्वार्थ  की  राजनीति के ,
दल  दल  में  फंसते  देखा  है ।
गंगा   सहज   प्रवाह   पावनी,
अमृत  को   झरते   देखा  है ।।

               -नवीन मणि त्रिपाठी

2 टिप्‍पणियां:

  1. नवरात्रों की हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (27-03-2015) को "जीवन अगर सवाल है, मिलता यहीं जवाब" {चर्चा - 1930} पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं