तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

गुरुवार, 19 अप्रैल 2012

छेड़ी जो ग़ज़ल



 

छेड़ी  जो  ग़ज़ल  रात  उसकी  याद  आ  गयी |
पलकों में टिप टिपाती सी  बरसात  आ  गयी ||

खुद को छिपा लिया था  ज़माने से इस  कदर |
परदे   हज़ार    फेंक   के   जज्बात आ  गयी ||

मैंने  सुना  था  जख्म को भरता है वक्त भी |
हर वक्त  से  जख्मों  में नयी जान आ गयी ||

 गैरों   के  क़त्ल   होने  की  चर्चाएँ आम   हैं |
अपनों के क़त्ल होने  की फरियाद आ  गयी ||

उन  कांपते  होठों  ने जो  पूछा था मेरा हाल |
खामोसियाँ    लबों   पे   सरेआम   आ   गयी ||

अश्कों  ने  भिगोया  है  किसी कब्र की  चादर |
नम  होती   हवाओं   से  ये  आवाज  आ गयी || 
                                                                       -नवीन

30 टिप्‍पणियां:

  1. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ||waah

    उत्तर देंहटाएं
  2. गैरों के क़त्ल होने की चर्चाएँ आम हैं |
    अपनों के क़त्ल होने की फरियाद आ गयी ||

    वह !!!!! बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर अभिव्यक्ति, बेहतरीन रचना लिखी है नवीन जी ,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ....
    अश्कों ने भिगोया है किसी कब्र की चादर |
    नम होती हवाओं से ये आवाज आ गयी ||
    बहुत सुंदर गज़ल....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ||

    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  5. छेड़ी जो ग़ज़ल रात उसकी याद आ गयी |
    पलकों में टिप टिपाती सी बरसात आ गयी ||

    .......waah sunder sabhi sher behatarin .....bahut khoob ek se badhkar ek

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावनाओं से परिपूर्ण बढ़िया प्रस्तुति,

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिल्‍कुल सच कहा है आपने प्रत्‍येक पंक्ति में ..आभार इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुति |
    आभार ||

    शुभकामनाये ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. उत्तर
    1. ख़ूबसूरत रचना, सुन्दर भावाभिव्यक्ति .

      कृपया मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" की १५० वीं पोस्ट पर पधारें और अब तक मेरी काव्य यात्रा पर अपनी राय दें, आभारी होऊंगा .

      हटाएं
  10. उन कांपते होठों ने जो पूछा था मेरा हाल |
    खामोसियाँ लबों पे सरेआम आ गयी ||
    लाजवाब नवीन जी.........हरेक शेर बेहद खूबसूरत है!

    उत्तर देंहटाएं
  11. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ||
    बहुत बढ़िया ग़ज़ल अश आर भी एक से बढ़के एक .

    उत्तर देंहटाएं
  12. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ||

    यह गज़ल एक नया जोश दे रही है. खूबसूरत प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  13. अश्कों ने भिगोया है किसी कब्र की चादर |
    नम होती हवाओं से ये आवाज आ गयी ||

    बहुत शानदार ग़ज़ल लिखी है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  14. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ...

    वाह क्या बात है ... बहुत अच्छे बहुत अच्छे ... समय जख्मों कों जिन्दा रखता है ... लाजवाब शेर है नवीन जी ... पूरी गज़ल कमाल है ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह !!!!!!!!!!!! गजब का शब्द चयन
    पलकों में टिप टिपाती सी बरसात आ गयी

    हर शेर बेहतरीन......

    उत्तर देंहटाएं
  16. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ||

    ....बहुत खूब! लाज़वाब गज़ल...हरेक शेर बहुत उम्दा...

    उत्तर देंहटाएं
  17. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ||

    ...बहुत खूब! लाज़वाब गज़ल..हरेक शेर बहुत उम्दा..

    उत्तर देंहटाएं
  18. vaah kya baat hai naveen ji bahut lajabaah ghazal hai sabhi sher bahut pasand aaye,sorry thoda padhne me late ho gai.

    उत्तर देंहटाएं
  19. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ||

    Bahut Umda....

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैंने सुना था जख्म को भरता है वक्त भी |
    हर वक्त से जख्मों में नयी जान आ गयी ||
    वाह .. बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. सारगर्भित रचना । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. उन कांपते होठों ने जो पूछा था मेरा हाल |
    खामोसियाँ लबों पे सरेआम आ गयी ||...waah kya kahne..

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत बढ़िया गजल...
    सादर बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  24. मन को छू जाने वाली ग़ज़ल
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं