तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शनिवार, 9 नवंबर 2013

"मृग मरीचिका"


 
आखिर क्यों हो जाते हो आशक्त ?
तुम्हारा कौन है ?
आत्मीयता मौन है |
हर और मिथ्या आडम्बर ,
माया का विशाल अम्बर |
पत्नी, बच्चे ,रिश्ते ,नाते ,
सबका अपना अपना स्वार्थ |
जकड़ते हुए बंधन के निहतार्थ |
समझौता बन चुका है ,
जीवन का आधार |
गौर से देखो हर ओर अंधकार |
जहाँ तुमने देखा था
अथाह शांति का जल |
क्या तुम्हें याद है ?
अपनी तपस्या का एक एक पल |
सब कुछ मृगमरीचिका के सिवा क्या निकला ?
नहीं सुलझ सका जीवन का मसला |
आखिरी समय .....
पश्चाताप की अग्नि में झुलस रहे हैं |
सिली हुई जुबान ....
कुछ कह भी नहीं पा रहे हैं |
और अब मृत्यु का वरण तो करना ही है |
तुम्हे फिर नए जीवन की ओर
चलना ही है |
काश तुमने जिंदगी को पहचाना होता !
अपने आप को जाना होता !
इस जीवन मरण के चक्र से बच सकते थे |
महा मोक्ष की राहों पर चल सकते थे |

                                         --  नवीन मणि त्रिपाठी

6 टिप्‍पणियां:

  1. मंगलवार 12/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी एक नज़र देखें
    धन्यवाद .... आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. यही मृग-मरीचिका है जिसके बारे में सब जानते हैं और फिर भी भागना ही होता है क्योंकि जीवन का शायद यही नियम है. बहुत सुन्दर रचना त्रिपाठी जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपने आप को जानना ... मोह माया से परे हो जाना ... कृष्ण बन जाना ही तो है ...
    फिर जीवन चक्र हो न हो क्या फर्क ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर व प्रभावशाली रचना , नवीन भाई धन्यवाद , * जै श्री हरि: *

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं