तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

बदलते ही नया मौसम ठिकाने छूट जाते हैं (ग़ज़ल)


----*********** "ग़ज़ल "***********----
        ( 25 शेरों से युत ग़ज़ल पहली बार )

वक्त  के   साथ  ऐ  जालिम,   ज़माने  छूट  जाते  हैं ।
मुहब्बत  क्यों  ख़ज़ानो   से  ख़ज़ाने  छूट  जाते  हैं ।।

तजुर्बा   है   बहुत  हर  उम्र  की   उन  दास्तानों   में ।
तेरीे  जद्दो  जेहद  में  कुछ फ़साने  छूट  जाते  हैं ।।

बहुत चुनचुन के रंजोगम को जो लिखता रहाअपना।
उन्हीं   से   इंतकामो   में   निशाने  छूट   जाते   हैं ।।

रकीबों  से  मुशीबत का कहर बरपा  हुआ  तब  से  ।
हरम  के  घुंघरुओं से  कुछ  तराने  छूट जाते हैं  ।।

वो   कुर्बानी  है  बेटी  की  जरा  जज्बात  से   पूछो ।
नए  घर   को   बसाने   में    घराने   छूट  जाते   हैं ।।

गरीबों   की  खबर  से  है  कमाई  का कहाँ  नाता ।
चैनलो  पर   कई  आंसू  दिखाने   छूट   जाते   है ।।

चन्द   साँसे  बची  हैं अब   सबक  के   वास्ते   तेरे ।
कायदे  फर्ज   के   अक्सर  बताने   छूट  जाते   हैं ।।

मुखौटे  ओढ़  के  बैठे  हुए  जो  ख़ास  है   दिखते ।
वही    रिश्ते  जो तुम् से  आजमाने  छूट  जाते  हैं ।।

यहां  सावन नहीं  बरसा  वहां  फागुन नहीं  आया।
दाल रोटी  में  वो   मौसम   सुहाने  छूट  जाते  हैं ।।

पेट  की आग  में  झुलसे  हुए  इंसान   से  अक्सर।
जो  मन  के  मीत थे   सारे   पुराने  छूट  जाते  हैं ।।

मकाँ  लाखो बना कर बेअदब सी सख्सियत जो हैं ।
इन्ही  लोगों  से  अपने   घर  बनाने   छूट  जाते  हैं ।।

परिंदों  का भरोसा  क्या  कभी  ठहरे   नही  हैं वो ।
बदलते  ही  नया   मौसम  ठिकाने   छूट  जाते  हैं ।।

न औकातों  से  ऊपर  उठ  मुहब्बत  जान  लेवा  है ।
बड़े  लोगो   से   कुछ  वादे  निभाने  छूट  जाते  हैं ।।

सियासत  लाश  पर  करके रोटिया सेंक ली उसने ।
सियासत  दां  से  अब  मरहम लगाने  छूट जाते  है ।।

खुशामद  कर  अनाड़ी  पा  रहे  सम्मान  सत्ता  से ।
ये   हिन्दुस्तान   है  प्यारे   सयाने   छूट  जाते   हैं ।।

खुशबओ की तरह वे जो बिखर जाते फिजाओं में ।
ख़ास  मेहमाँ  मेरी  महफ़िल  बुलाने  छूट  जाते हैं ।।

मैंकदों में से न कर  यारी इन्हें  दौलत बहुत प्यारी ।
यहाँ   तिश्ना  लबों  को  मय  पिलाने छूट जाते हैं ।।

अदालत में  सुबूतो पर है लग  जाती  कोई  बोली ।
यहाँ  मुजरिम  भी दौलत  के  बहाने  छूट जाते हैं ।।

कातिलो  के  शहर  में  ढूढ़  ले अपनी  वफादारी ।
मुहब्बत  के बदौलत  कत्ल  खाने  छूट जाते  हैं ।।

बयां करके गया है खत तेरे राज ए हकीकत को ।
इश्क बाजी में  तुझसे खत  जलाने  छूट जाते हैं ।।

कसम रंजिश में वो खाता रहा उसको मिटाने के ।
रूबरू  चाँद  से ख्वाहिश  मिटाने  छूट जाते  हैं ।।

मिला है वह गले  मेरे  मगर  खंजर  छुपा  करके ।
नफरतों  के   किले उनसे  ढहाने  छूट  जाते  हैं ।।

हवाला   उम्र  का  देकर  दरिंदे  फिर  बचे  देखो ।
तुम्हारे  शहर  के  ये   शातिराने    छूट  जाते  हैं ।।

वो   चौराहो  पे  बैठी थी  नकबो से अलग  हटकर ।
मुकाम  ए  उम्र  से  फैशन  दिखाने  छूट जाते  हैं ।।

ग़ज़ल  की  तिश्नगी है बेकरारी  का सबब आलिम ।
हूर   के  बिन  स्वरों  में  गुनगुनाने   छूट  जाते  हैं ।।

                         
                                    --नवीन मणि त्रिपाठी

(मित्रो ग़ज़ल कम से कम 3 शेर और अधिकतम 25 शेरो तक लिखी जाती है मैंने पहली बार इतनी बड़ी ग़ज़ल लिखी है आपको कैसी लगी )

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (06-02-2016) को "घिर आए हैं ख्वाब" (चर्चा अंक-2244) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं