तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

गुरुवार, 22 दिसंबर 2016

वो सुर्खरू चेहरे पे कुछ आवारगी पढ़ने लगी

----------*****  ग़ज़ल ******-------

बहरे रजज़ मुसम्मन सालिम 
मुस्तफइलुन मुस्तफइलुन मुस्तफइलुन मुस्तफइलुन
2212   2212   2212   2212 

शर्मो  हया  के   साथ   कुछ  दीवानगी   पढ़ने  लगी।
वो  सुर्खरूं  चेहरे  पे  कुछ  आवारगी  पढ़ने   लगी ।।

हर  हर्फ़  का  मतलब  निकाला जा रहा खत में यहां ।
खत के लिफाफा पर वो दिल की बानगी पढ़ने लगी ।।

वह  बेसबब  रातों में आना और  वो पायल की धुन ।
शायद  गुजरती  रात  की  वह  तीरगी  पढ़ने   लगी ।।

गोया  के  वो महफ़िल में आई  बाद  मुद्दत के  मगर ।
ये क्या  हुआ  उसको जो  मेरी  सादगी  पढ़ने  लगी ।।

कुछ  हसरतों  को दफ़्न कर देने पे ये तोहफा मिला ।
वो  फिर  तबस्सुम  को  लिए  मर्दानगी  पढ़ने  लगी ।।

बहकी  अदा  तो  वस्ल  के  अंजाम  तक  लाई  उसे ।
पैकर  पे  आकर   फिर  नज़र  शर्मिंदगी  पढ़ने लगी ।।

नज़दीकियों  के  बीच   में  पर्दा  न  कोई   रह   गया ।
मेरी   जलालत   में    मेरी    बेपर्दगी    पढ़ने    लगी ।।

सहमी  हुई  थी आँख  वो  सहमा मिला था दिल  तेरा ।
कुछ  हिज्र   पर  गमगीन  था नाराजगी  पढ़ने  लगी ।।

खामोशियाँ  थीं लफ्ज पर जज्बात फिर  भी  थे जवाँ ।
नज़रों से  निकली हुस्न की  वो  बन्दगी  पढ़ने  लगी ।।

ये  आधियों  का  जुर्म , पर  झंडा वहीँ   कायम  रहा ।
अब   वो   हमारे इश्क़ की  हर तिश्नगी   पढ़ने  लगी ।।

            -- नवीन मणि त्रिपाठी

1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (24-12-2016) को गांवों की बात कौन करेगा" (चर्चा अंक-2566) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं