तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शुक्रवार, 30 दिसंबर 2011

2012 अवधी भाषा में छंद

             आप सब को नव वर्ष २०१२ पर हार्दिक बधाई देता हूँ | प्रभु की महान अनुकम्पा सदैव आप के साथ रहे तथा नूतन वर्ष में आपकी लेखनी साहित्य सृजन के क्षेत्र में अनवरत अनंत ऊँचाइयों   को छूती  रहे | 

       नव वर्ष 2012  आ गया है | मैंने अपनी भावनाओं के माध्यम से  अवधी भाषा में मंगल कामना हेतु  कुछ छंद समाज के चार वर्गों को समर्पित करने का प्रयास किया है | विश्वास  है, आपका स्नेह मेरी रचना के लिए जरूर मिलेगा | 



                   वर्ष २०१२ पर मंगल   कामना लिए हुए समाज के चारों वर्गों को समर्पित क्षेत्रीय अवधी भाषा में  छंद -

धन  धान्य  भरै,घर क्लेश मिटै, मिटि  जावहि जीवन कै अधियारो |
 यहि  बारह अंक से ,बारह राशि  को,  वर्ष मिलै  तुमका उजियारो ||
बस  प्रीति की  पाँखुरी  में  सगरौ ,तुम मोहक मोहक  पंथ  निहारो |
लडिके  पडिके   सब  फूलैं फलै ,यही  देखि तुम्हारे हों  नैन सुखारो ||


निज   कर्म  के  रंग  न  भंग  परै, तुलसी   कै  बयार  बहै  नित द्वारो |
माया  की  माया  से  दूरि राखें प्रभु ,चंचला  गनपति  संग  पधारो ||
कहत   नवीन   जौ   नूतन   साल से, नेह   के  नवरस  पान चखारो | 
फूल   गुलाब   सरीखी   खिलै ,होई  मंगल  मय   नव  वर्ष  तुम्हारो ||


रक्त   की  बात  करौ  न सखा , यहि वर्ष कै चाँद भलो  अति  न्यारो |
जरदारी  गिलानी कियानी  सबै, मिटि जावहिं आपन पाप के भारो||
बसुधैव  कुटुम्ब  की  ज्योति  लई यहि  देश  की  पावन भूमि पुकारो |
नव   देश  रचौ  नव  रंग  भरौ , नव   नीरज  के  जस  वर्ष  ऊकारो ||


खटिया - मचिया, कथरी - दउरी ,ड्योढ़ी  मा  सजै तुम्हरे घर बारो |
बिटिया  कै बियाहे  कै  हेंगा  गडै ,नव  पाहुन  आवै  तिहारे वसारो ||
खइरी  भइसी  कै   दूध   बढे, बढ़ी  जवाहिं   पूँछहिं   पूँछि   मुहारो |
नारिया खपड़ा कै विसारो तनि, यहि साल नवा घर मा  सिर डारो ||












39 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर कामना है आपकी, अच्छी रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुती बेहतरीन रचना,.....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    उत्तर देंहटाएं
  3. avdhi bahut sunder rachna
    badhai
    aur nav varsh mangalmy ho
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत दिनों के बाद एक अत्यंत सुरुचि पूर्ण व तथ्यात्मक रचना पढ़ने को मिली है. आपको इस नव वर्ष की शुभ बेला में हार्दिक शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  5. तीखी कलम की मीठी रचना. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर अभिवयक्ति....नववर्ष की शुभकामनायें.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. अवधी अपने चरमकाल में,भाषा ही थी,कोई बोली नहीं। कम प्रयोग के कारण देखिए,कहां से कहां आ पहुंची।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मंगल कामनाएं अभिव्यक्त करते आपके ये छंद बहुत प्यारे हैं।
    शुभ नववर्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप तथा आपके परिवार के लिए नववर्ष की हार्दिक मंगल कामनाएं
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 02-01-2012 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  11. nav varsh ki hardik badhai.tatha is khubsurat se chhand ke kiye bhi bahut bahut aabhar ......

    उत्तर देंहटाएं
  12. अवधिया खनक लिए कोमल भाव मंगल कामना लिए आपकी रचना गुनगुनाती रही हमारे द्वारे देर तक .बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut sundar avdhi chhand...
    नव वर्ष मंगलमय हो ..
    बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut behtreen chhand ek se badhkar ek.aapko nav vash ki badhaaiyan.

    उत्तर देंहटाएं
  15. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह नवीन जी आपने तो खम्भा उखाड़ दिया गज़ब की रचना बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  17. sundar rachana..नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ...नववर्ष की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  19. अवधि का जायका देती शानदार रचना ,ब्लॉग जगत के लिए विशेष उपलब्धि .

    उत्तर देंहटाएं
  20. nice poem
    नव वर्ष मंगलमय हो
    बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही बढि़या प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. कल 04/01/2012 को आपकी कोई एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, 2011 बीता नहीं है ... !

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  23. पढ़कर बहुत अच्छा लगा ..अपनी भाषा का आनंद ही कुछ और है.

    नए वर्ष की शुभकामनाये. कभी मेरे ब्लॉग पर आयें.आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. आप को भी सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  25. आप को भी सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  26. अनुभवी कलम को पढने का आनन्द ही कुछ और होता है ....बहुत ही सुन्दर रचना ...शुभकामनाओं से भरी इस काव्य रचना से बहुत कुछ सिखने को मिला ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट " जाके परदेशवा में भुलाई गईल राजा जी" पर आपके प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । नव-वर्ष की मंगलमय एवं अशेष शुभकामनाओं के साथ ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. ऐसे कबित्त आजकल कहाँ देखने को मिलते हैं.. बहुत बहुत प्यारी हैं यह शुभकामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. मन को छूते छंदों ने नवीन- वर्ष पर रस और आशीष की ऐसी वर्षा कर दी कि रिमझिम फुहारों में तन-मन सराबोर हो गया.

    उत्तर देंहटाएं
  30. मन को छू गए,आपके खुबशुरत छंद,..सुंदर पोस्ट

    WELCOME to new post--जिन्दगीं--

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत मोहक छंद ... नव वर्ष की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत सुंदर रचना...नव वर्ष की मंगलकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को नये साल की ढेर सारी शुभकामनायें !
    बहुत ख़ूबसूरत रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  34. आज के इस दौर में आपकी रचना ह्रदय पर ठंडी बौछारों सी प्रतीत होती है .... बहुत ही सुन्दर रचना है .... आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  35. रक्त की बात करौ न सखा , यहि वर्ष कै चाँद भलो अति न्यारो |
    जरदारी गिलानी कियानी सबै, मिटि जावहिं आपन पाप के भारो||


    सम्यक सन्दर्भों को समेटे आपकी यह रचना निश्चित रूप से प्रासंगिक है ....बहुत दिनों बाद छंद युक्त रचना और वह भी अवधी में .....वाह क्या बात है ......!

    उत्तर देंहटाएं