तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

रविवार, 11 दिसंबर 2011

अभिशप्त लोकतंत्र

   अभिशप्त लोकतंत्र
                      
                                 -¬नवीन  


  एक महान आहुति,           
स्वतंत्र राष्ट्र की परिणिति।
असंख्य कुर्बानियॉं ,
खण्डित हुई ब
ेड़ियॉ।
एक स्वर्णिम राष्ट्र की परिकल्पना।
राम राज्य का सपना।
कहॉ हुआ अपना ?
हम कहॉ पा सके,
समानता का अधिकार ?
नहीं रोक सके,
मानवता पर अत्याचार।
पूजीवादी व्यवस्था का पोषण,
गरीबों का शोषण।
अब एक सामान्य सी,
घटना हो गयी है।
देश की तश्वीर बदल गयी है।
न्याय की दूकान धड़ल्ले से चल रही है।
कहीं साक्ष्य तो कहीं गवाही बिक रही है।
ईमान का रेट ,
बहुत सस्ता हो गया है।
पेट की भूख से ,
इन्सान खस्ता हो गया है।
हमने खो दिया है मकसद,
आजादी का।
उन्हें 15से 20फीसदी,
जनसर्मथन हासिल है।
जनमत आबादी का।
क्या हम अवैध सत्ता के
गुलाम हो चुके हैं ?
स्वतंत्रता का मुकाम खो चुके हैं?
वे अरबों के घोटाले करते हैं।
देश को चूसते हैं।
अपनी सुरक्षा का कनून बुनते हैं।
जनता के सामने मासूम दिखते हैं।
हमारी आवज पर,
ताला लगाने की तैयारी है।
सोशल नेटवर्किंग की बारी है।
न्यूज चैनल पर भी ,
उनका शिकंजा है।
हमारी अभिव्यक्ति पर लग चुका
तमंचा है।
हम उन्हें पद से वापस बुलाने का
अधिकार चाहते हैं।
दो बटे तीन देश की पूर्ण जनमत की
सरकार चाहते हैं।
हमें यह अवैध चुनाव प्रणाली ,
बदलनी ही होगी।
समस्त मतदाताओं के मतदान की
अनिवार्यता करनी ही होगी।
हमें नहीं चाहिए ,
मात्र बीस फीसदी जनमत की सरकार।
नहीं बर्दाश्त करेंगे ,
बीस दलों की बाजार।
पक्ष-विपक्ष के रूप में
मात्र दो दल चाहिए।
एक लोकतंत्र.....
सबल चाहिए।
जॉति पॉति व धार्मिक,
भावनाओं के, भक्षक है वे।
राष्ट्रय एकता के विध्वंसक हैं वे।
जनता अपने चारों स्तम्भों से
उदास है।
गुलामी जैसी स्थिति के आसपास है।
क्यों ना एक और संग्राम छेड़ा जाए।
सारे काले धन को निचोड़ा जाए।
जागो यह एक ,
खतरनाक जनतंत्र है।
ऐसा लगता है,
देश आज भी परतंत्र है।
देश को लूटता हुआ...... 

यह कैसा गणतंत्र है।
मानो या ना मानो ,
यह तो एक........
अभिशप्त लोकतंत्र है।
यह तो एक
अभिशप्त लोकतंत्र है।।

        -नवीन मणि त्रिपाठी

23 टिप्‍पणियां:

  1. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 12-12-2011 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज की हालात पर करारा चोट करती..सही दिशा दिखाती सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज के हालात और खास तौर पर लोकतंत्र का माखौल उड़ाती व्यवस्था पर गहरी चिंता व्यक्त हुई है इस रचना में।

    उत्तर देंहटाएं
  4. 'आयना' सामने रख दिया- यथार्थ कृति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही उम्दा रचना ...एक एक शब्द सटीक ..आभार

    मैं पूछ रही दिल्ली तुझ से
    ये प्रजा तंत्र अब बचा कहाँ ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहले तो मैं आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हूँ मेरे ब्लॉग पर आकर उत्साहवर्धक टिप्पणी देने के लिए!
    सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  7. देश आज भी परतंत्र है।
    देश को लूटता हुआ......
    यह कैसा गणतंत्र है।
    मानो या ना मानो ,
    यह तो एक........
    अभिशप्त लोकतंत्र है।
    यह तो एक
    अभिशप्त लोकतंत्र है।।

    बहुत सुन्दर कविता ..!
    देश के वर्तमान दशा को उजागर करती सुन्दर रचना ..!
    मेरे ब्लॉग आपका हार्दिक स्वागत है ..!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति है आपकी.

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सटीक और प्राभावशाली अभिव्यक्ति है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. aapke blog par pahli baar aana hua..behad shandar prastuti..jo jhakjhorati hai..aandolit karti hai..jab aapke baare me padha to aaur bhi khusi hui kee aap babhnan ke behad karib hain..chaliye aaj is tarah baat hogi..khuda ne chaha to kabhi mulakat bhi hogi..sadar

    उत्तर देंहटाएं
  11. सत्य का आइना दिखती सटीक सार्थक रचना,...सुंदर पोस्ट

    कुछ इसी तरह की मेरी रचना.....देखे..
    मेरी नई पोस्ट केलिए काव्यान्जलि मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्राभावशाली प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं
  13. सटीक पंक्तियाँ..... बहुत कुछ समेत लिया आपने आज के हालातों पर .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपका पोस्ट मन को प्रभावित करने में सार्थक रहा । बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेर नए पोस्ट 'खुशवंत सिंह' पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. Loktantra nahi ab to yah lottantra ya loottantra ban gaya hai..
    sarthak prastuti..

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुंदर पोस्ट ..सटीक पंक्तियाँ.....

    उत्तर देंहटाएं