तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शनिवार, 18 फ़रवरी 2012

महिला आरक्षण

महिला आरक्षण


वह प्रतीक है,
किसी सभ्य समाज की .
वह पूजनीया है ,
भारतीयों के ताज की .
अर्धांग है,
भारतीय पुरषतत्व की .
शशांक है ,
मानवीय ममत्त्व की .
सबने देखा उसे ,
अन्तरिक्ष की सैर करते .
वायु यान उड़ाते जलयान चलाते.
गोलियां बरसाते देश पर कुर्बान होते .
हिंदुस्तान की बागडोर सँभालते .
सब कुछ बेहतर करने की क्षमता है .
फिर भी पुरुष प्रधान मानसिकता ,
चिल्ला चिल्ला कर कहती है ,
नारी का पुरषों से भला क्या समता है ?
* * * * * *

युगों युगों तक नारी को ,
कई तह पर्दों में लपेटा गया .
आपने स्वार्थ के लिए लोगों को परोसा गया .
उपभोग की बस्तु की उपमा दी गयी .
तो कहीं शोषण के मानचित्रों में .
अलंकृत की गयी .
धर्म के आडम्बर में ,
कहीं देवी तो ,तो कहीं माँ तो कहीं
बहन का सम्मान मिला .
यह सारा कपोल कल्पित कमल ,
खोखली सामाजिकता के आसपास ही खिला .
वर्षों से दबाया गया नारी जीवन को ,
शायद ...............
अब वे नहीं सहेंगी .
दृढ़ हो रहीं हैं भारतीय नारियां .
महिला आरक्षण ले के रहेंगीं .

* * * * * *

आज एक नर्सिंग होम में .
एक महिला आयी .
खुद को एक महिला डाक्टर को दिखाई .
डाक्टर मैडम ...
जाँच करके बताइए,
मेरे पेट में नर है या नारी ?
अगर नारी है ....... .
तो जन्म देना होगा भारी .
मुझे सिर्फ कुलदीपक चाहिए .
बंश परम्परा का द्द्योतक चाहिए .
तभी माँ के उदर से ,
निर्दोष बच्ची की बिलखती सी आवाज आयी .
माँ के फैसले से बच्ची अधिक तिलमिलाई .
ओ... मेरी ...इक्कीसवी शदी की माँ .........???
तुम तो नारी हो...... नारी की सोच ....
सिर्फ पार्लियामेंट में
बिल पास करवाने से क्या होगा ?
हमारी झोली में भी मानवता का अधिकार भर दे .
अगर पास करना है ..........
तो अपनी ही कोख में .......
महिला आरक्षण का बिल पास कर दे .
महिला आरक्षण का बिल पास कर दे .

40 टिप्‍पणियां:

  1. फिर भी पुरुष प्रधान मानसिकता ,
    चिल्ला चिल्ला कर कहती है ,
    नारी का पुरषों से भला क्या समता है ?
    bahut simple see baat hai
    sach ko nahee maannaa
    jhooth bolnaa hamaaree aadat hai
    purshon ko mahilaaon se dar jo lagtaa hai
    pahle kewal ghar mein pitte they
    ab baahar bhee pitnaa padegaa
    is baat se dar lagtaa hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. समाज जिस मानसिकता में जीता है, उसके विभिन्न पहलुओं को आपने अपनी रचना में बड़ी खूबी से समाहित किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दो सामाजिक घटनाओं को जोड़ती प्रभावी कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह!!!!!नवीन जी,क्या बात कही आपने,...भावपूर्ण बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सुंदर रचना

    MY NEW POST ...काव्यान्जलि...सम्बोधन...

    उत्तर देंहटाएं
  5. .भावपूर्ण बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सुंदर रचना|

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रभावशाली सशक्त भावपूर्ण प्रस्तुति.
    आपके सद लेखन को नमन.
    आभार,नवीन जी.

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut prerak sashakt rachna likhi hai aapne aapki lekhni ko salaam isko face book par ,twitter par share kar rahi hoon....badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. namaskar tripathi ji
    सब कुछ बेहतर करने की क्षमता है .
    फिर भी पुरुष प्रधान मानसिकता ,
    चिल्ला चिल्ला कर कहती है ,
    नारी का पुरषों से भला क्या समता है ?
    * * * * * * ......bahut ki sunder katu satye ko bayan karti hui sarthak post . aapne bahut prabhavshali tarike se prastut kiya ....abhar itni sunder rachna ke liye aapko .......hardik shubhkamnaye. badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  9. तो अपनी ही कोख में .......
    महिला आरक्षण का बिल पास कर दे .

    क्या बात कही... वाह!
    सुन्दर रचना पर हार्दिक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  10. ओ... मेरी ...इक्कीसवी शदी की माँ .........???
    तुम तो नारी हो...... नारी की सोच ....
    सिर्फ पार्लियामेंट में
    बिल पास करवाने से क्या होगा ?
    हमारी झोली में भी मानवता का अधिकार भर दे .

    ... सशक्त भावपूर्ण प्रभावशाली प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहूत हि अच्छी,बेहतरीन और सार्थक रचना है...

    उत्तर देंहटाएं
  12. महिला के कई रूप आपने इस सुंदर कविता में झलकाए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. तो अपनी ही कोख में .......
    महिला आरक्षण का बिल पास कर दे.
    क्या बात है! वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह...क्या कहा है नीलमणि जी! बहुत खूब!! अंगेजी में बोले तो ... लेट चैरिटी बिगिन एट होम। कुछ कुछ यही यहाँ भी है: कृपया देखें,
    http://tyagiuwaach.blogspot.in/2012/01/blog-post.html#comment-form

    उत्तर देंहटाएं
  15. मर्म को स्पर्श करती हुई रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  16. अगर पास करना है ..........
    तो अपनी ही कोख में .......
    महिला आरक्षण का बिल पास कर दे .

    .....बहुत मर्मस्पर्शी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  17. सच कहा है सबसे पहले नारी फिर पुरुष और फिर समाज को अपनी सोच बदलनी होगी ...
    बहुत संवेदनशील लिखा है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रासंगिक भाव किये प्रस्तुति..... सटीक एवं स्पष्ट विचार लिए

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहद सशक्त एवं सार्थक रचना...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति| धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  21. महिला आरक्षण बिल पास हो जाएगा उस दिन आधे पुरुष नेताओं की छुट्टी हो जायगी बहुत,बेहतरीन अच्छी प्रस्तुति,सुंदर सटीक रचना के लिए बधाई,.....

    MY NEW POST...आज के नेता...

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकी कविता के प्रत्येक शब्द समवेत स्वर में बोल उठे हैं ।.भाव भी मन को दोलायमान कर गया । मेरे नए पोस्ट "भगवती चरण वर्मा" पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. महिलाओं के लिए हक़ हुकूक मांगने के सन्दर्भ में आपकी कविता एक नए एहसास से गुज़रना है....

    उत्तर देंहटाएं
  24. कटु सत्य बयान करती सुंदर व अति संवेदनापूर्ण प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  25. अति उत्तम,सराहनीय प्रस्तुति,सुंदर रचना.....

    NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    उत्तर देंहटाएं
  26. सर बहुत ही सुन्दर कविता |आपका उत्साहवर्धन हमें कुछ नया लिखने को प्रेरित करता है |आभार

    उत्तर देंहटाएं
  27. प्रभावी लेखनी चलायी है आपने..विचारों के लिए धन्यवाद :)

    उत्तर देंहटाएं
  28. naveen ji,
    bahut achchha laga aapki lekhni se ru-b-ru hona kintu jahan tak mahila aarakshan ki bat hai to main kisi ke liye bhi aarakshan ke khilaf hoon yadi is desh me sabhi tarah ka aarakshan samapt kar diya jaye to mera manna hai ki sahi pratibha ko ubharne ka sahi mauka milega.aapke vichar mahilaon ke vishay me sarahna ke yogya hain.aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  29. अगर पास करना है ..........
    तो अपनी ही कोख में .......
    महिला आरक्षण का बिल पास कर दे .
    महिला आरक्षण का बिल पास कर दे .
    क्या बात है इससे सशक्त रचना क्या हो सकती है .इसी सन्दर्भ में एक अपील पुरुषों से कन्या वध पर ....मर्द अर्द्ध - नारीश्वर है .क्योंकि वह एक एक्स -वाई इन्दिविज़्युअल है .

    जरा सोचों उसके अन्दर का एक्स (नारी की कोमलता )मर जाए तब वह निरा ठूंठ न रह जाएगा .जबकि औरत मात्र एक्स -एक्स युग्म है .पुरुष में नारी मौजूद है नारी में पुरुष नहीं है .इसीलिए पुरुष ज्यादा कोमल है .साथ साथ बलिष्ट भी इसलिए नारीश्वर कहलायें हैं 'नटराज 'राजाओं के राजा शिव .

    हाँ कन्याओं को मत मारो तुम्हारा ही एक हिस्सा मारा जाता है एक्स .

    उत्तर देंहटाएं
  30. नवीन जी , इस सार्थक रचना के लिए हार्दिक बधाई, भाव तो अत्युत्तम हैं ही पर शब्द चयन तो अद्भुत है आपका ...

    उत्तर देंहटाएं
  31. मुखौटे ओढ़े हुये चेहरे ..... पहले स्वयं को मजबूत करें ॥खाली बिल पास होने से क्या होने वाला है ... बहुत सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  32. sir ji bahut hi sundar rachna hai .... itne din baad blog tak pahuch paya hu deri ke liye mafi chahta hun ... !!!

    उत्तर देंहटाएं