तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

गुरुवार, 2 फ़रवरी 2012

तेरी आँखों में ......

तेरी आँखों में ......
                     


ग़ज़ल  की  तश्नगी  जरूर  तेरी  आँखों   में |
मीठे   एहसास  का  सरूर 
तेरी  आँखों  में ||

आइना  ने    अक्स , जब  तुझको  दिखाया |
बे  अदब  आ  गया , गुरूर   तेरी  आँखों  में ||


नज़र नज़र से मिली मुश्किलों के बाद मगर |
खास  तश्वीर   लगी   दूर    तेरी   आँखों    में ||

सुबूत दिल ने दिया दिल के सबब से तुमको |
है  बेवफाई   का    फितूर   तेरी    आँखों   में ||

जाम छलके भी हैं अक्सर यहाँ सलीके बिन |
मगर    है   कीमती   सहूर   तेरी   आँखों  में ||

तलाश   मंजिलों  के  आस  पास  से गुजरी |
मिली  वो  जन्नतों  की  हूर  तेरी आँखों में ||

जुल्फें हर वक्त क़यामत   का  जुल्म ढाती हैं |
लाल  डोरे  भी   हैं   मशहूर  तेरी   आँखों  में ||

दुआ मांगी थी जो मौला से मोहब्बत खातिर |
नफरतें   आयी   थीं   भरपूर  तेरी  आँखों  में ||

हार   कर  बैठ  गया  था  मैं  अधेरों  से  यहाँ |
पा  गया  जिंदगी  का   नूर  तेरी    आँखों  में ||

छुपा  छुपा  के  जतन लाख कर लिया तुमने |
बे   पर्दा   इश्क    है  हुजूर,  तेरी   आँखों   में ||

जब  भी  तनहा हुए, यादों के समंदर में गिरे |
अश्क  ढलने  लगे   मजबूर   तेरी  आँखों  में ||

हो  के  बेचैन  जब  मैं  तुझको  भूलना चाहा |
दिखा   है  मेरा   ही   कसूर   तेरी  आँखों  में ||

                          नवीन


47 टिप्‍पणियां:

  1. आपके ब्लॉग के रंग बहुत तेज़ हैं ..थोडा माध्यम कीजिये..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आँखों आँखों में बात होने दो,...बेहतरीन,लाजबाब,गजल,
    नवीन जी कमाल का लिखा आपने,.....

    my new post...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिखा कोई मुद्दा मशहूर तेरी आँखों में

    उत्तर देंहटाएं
  4. मीर इन नीम बाज़ आँखों में , सारी मस्ती शराब की सी है ..... बहुत खूब लिखा है नवीन जी , कुसूर अंकों का और सजा दिल को मिलाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. हो के बेचैन जब मैं तुझको भूलना चाहा |
    दिखा है मेरा ही कसूर तेरी आँखों में ||बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति........

    उत्तर देंहटाएं
  6. आँखों की सटीक प्रस्तुति के लिये बधाई.......
    कृपया इसे भी पढ़े-
    नेता, कुत्ता और वेश्या

    उत्तर देंहटाएं
  7. तलाश मंजिलों के आस पास से गुजरी |
    मिली वो जन्नतों की हूर तेरी आँखों में ||

    तौबा ...!
    मिली भी तो आँखों में ...
    पर हूर परियां मंजिलों के आस पास नहीं रहतीं ....
    सुना है समंदर से निकल कर आती हैं ....तो वहीँ तलाश करते न ....:))

    ये आखें ही मिलाती हैं जमाने में दिलों को
    अनजान हैं हम-तुम अगर अनजान हैं आखें .....

    उत्तर देंहटाएं
  8. ग़ज़ल की तश्नगी जरूर तेरी आँखों में |
    मीठे एहसास का सरूर तेरी आँखों में ||

    आइना ने अक्स , जब तुझको दिखाया |
    बे अदब आ गया , गुरूर तेरी आँखों में ||

    नज़र नज़र से मिली मुश्किलों के बाद मगर |
    खास तश्वीर लगी दूर तेरी आँखों में ||............bahut hi khoobsurat gajal .

    उत्तर देंहटाएं
  9. हो के बेचैन जब मैं तुझको भूलना चाहा |
    दिखा है मेरा ही कसूर तेरी आँखों में ||


    वाह!! बहुत उम्दा!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हो के बेचैन जब मैं तुझको भूलना चाहा |
    दिखा है मेरा ही कसूर तेरी आँखों में ||

    खूबसूरत गज़ल...!
    कई रचनाएं पढ़ी....
    विविधता है आपकी तीखी कलम में...
    मेरे ब्लॉग तक आने का शुक्रिया.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. हार कर बैठ गया था मैं अधेरों से यहाँ |
    पा गया जिंदगी का नूर तेरी आँखों में ||

    Bahut hi Sunder

    उत्तर देंहटाएं
  12. हो के बेचैन जब मैं तुझको भूलना चाहा |
    दिखा है मेरा ही कसूर तेरी आँखों में ||
    badhiya har pankti ......

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह..
    बहुत बढ़िया और बेहतरीन प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर खयाल और अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  15. तलाश मंजिलों के आस पास से गुजरी |
    मिली वो जन्नतों की हूर तेरी आँखों में ||
    अंदाज़ आपके बड़े अलग हैं ज़नाब ,हैं बड़े खूबसूरत आपके लबों जैसे ...बहुत बढ़िया ग़ज़ल है .है शेर उम्दा .

    उत्तर देंहटाएं
  16. खूब शेर कह रहे हैं,नवीन भाई.
    पढ़कर अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  17. शानदार गज़ल नवीन जी. इस अश'आर पर खासतौर से दाद कुबूल फरमायें-
    जुल्फें हर वक्त क़यामत का जुल्म ढाती हैं |
    लाल डोरे भी हैं मशहूर तेरी आँखों में ||

    उत्तर देंहटाएं
  18. हार कर बैठ गया था मैं अधेरों से यहाँ ,
    पा गया जिंदगी का नूर तेरी आँखों में ।

    खूबसूरत ग़ज़ल का खूबसूरत शेर।
    त्रिपाठी जी, दाद कबूल फरमाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. आज 05/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर (सुनीता शानू जी की प्रस्तुति में) लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  20. subhaan allah ....vaah vaah kya baat hai maja aa gaya aapki ghazal padhkar.

    उत्तर देंहटाएं
  21. जाम छलके भी हैं अक्सर यहाँ सलीके बिन |
    मगर है कीमती सहूर तेरी आँखों में ||... तो बेसलीका भी भा जाता है , वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  22. आइना ने अक्स , जब तुझको दिखाया
    बे अदब आ गया , गुरूर तेरी आँखों में ...

    हसीनों की इस आदत को बाखूबी बयान किया है इस शेर के माध्यम से ...
    सुभान अल्ला ... दाद कबूल करें ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. //दुआ मांगी थी जो मौला से मोहब्बत खातिर |
    नफरतें आयी थीं भरपूर तेरी आँखों में ||
    //छुपा छुपा के जतन लाख कर लिया तुमने |
    बे पर्दा इश्क है हुजूर, तेरी आँखों में ||

    behtareen sirji.. kamaal k sher :)

    उत्तर देंहटाएं
  24. छुपा छुपा के जतन लाख कर लिया तुमने |
    बे पर्दा इश्क है हुजूर, तेरी आँखों में ||

    पूरा माहौल इश्किया कर डाला इस बेहतरीन प्रस्तुति से. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  25. जाम छलके भी हैं अक्सर यहाँ सलीके बिन |
    मगर है कीमती सहूर तेरी आँखों में ||.
    ..bahut khoob kahi aapne

    उत्तर देंहटाएं
  26. वाह!!!!!!!
    बहुत खूबसूरत गज़ल..

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  27. अच्छी ग़ज़ल, जो दिल के साथ-साथ दिमाग़ में भी जगह बनाती है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आंखों में ही संसार दिखता है,देखने की नज़र चाहिये.

      हटाएं
  28. आइना ने अक्स , जब तुझको दिखाया |
    बे अदब आ गया , गुरूर तेरी आँखों में ||

    अच्छी गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  29. कमाल नज़्म लिखा है आपने ..बहुत अच्छी लगी..

    उत्तर देंहटाएं
  30. तभी,हमारी हिम्मत नहीं होती मिलाने की!

    उत्तर देंहटाएं
  31. कमाल का लेखन है ...बहुत बढ़िया लिखा है ...
    बधाई एवं शुभकामनायें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. ap likhte rahiye ....abhi man nahi bhara.....bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  33. हो के बेचैन जब मैं तुझको भूलना चाहा |
    दिखा है मेरा ही कसूर तेरी आँखों में ||


    वाह!...वाह!...मजा आ गया!

    उत्तर देंहटाएं
  34. puri rachna hi bahut sundar hai,ye panktiyaan mujhe vishesh pasnd aaeen.....हार कर बैठ गया था मैं अधेरों से यहाँ |
    पा गया जिंदगी का नूर तेरी आँखों में ||

    उत्तर देंहटाएं
  35. सुबूत दिल ने दिया दिल के सबब से तुमको |
    है बेवफाई का फितूर तेरी आँखों में ||
    Wah!

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत अच्छा लिखा आपने,बढ़िया प्रस्तुति

    NEW POST.... बोतल का दूध...

    उत्तर देंहटाएं
  37. छुपा छुपा के जतन लाख कर लिया तुमने |
    बे पर्दा इश्क है हुजूर, तेरी आँखों में ||waah.....bahut achcha.

    उत्तर देंहटाएं
  38. छुपा छुपा के जतन लाख कर लिया तुमने |
    बे पर्दा इश्क है हुजूर, तेरी आँखों में ||
    wah lajavab
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  39. वाह ...बहुत खूब सभी एक से बढ़कर एक हैं आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  40. बहुत अच्छा लिखा आपने,बढ़िया प्रस्तुति
    बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  41. सुन्दर भाव संयोजन सुन्दर गज़ल |

    उत्तर देंहटाएं