तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शनिवार, 25 अगस्त 2012

दो कवितायेँ

     शान्ति
वह मिलती है क्या ?
अरबों रुपयों के गोल मॉल में ,?
उद्योगपतियों  के 

वैभवशाली परिवार में ?
दूरदर्शन पर प्रायोजित 

महत्माओं की दूकान में ?
शायद वह वहाँ   नहीं |
गलत है तलाश की दिशा !
अनंत अंधकार युक्त निशा |
तुम्हारी असंख्य इच्छाओं ने ,
जीवन की कुटिल धाराओं में |
कार कोठी बंगला ,
जिसे चाहा दिल से पुकारा |
वह सब कुछ मिल गया |
कामनाओं का कमल खिल गया |
.......तुमने !
एक बार भी उसे नहीं पुकारा !
......असीम
आनंद का कलश लिए
तुम्हारी निकटता पाने के लिए
बेचैन .......
प्रतीक्षारत नैन .....
उसकी ओर अपना मुँह 

फेरो तो सही |
उसकी भावनाओं को 
समझो तो सही |
लेकर जीवन के 
नव सृजन के कांति ,
मिलेगी तुम्हे
 मिलन की व्याकुलता लिए ,
तुम्हारी शान्ति |
तुम्हारी शान्ति |
तुम्हारी शान्ति ||
 

           प्रतीक्षा




चिर परिचित आँखें
अब वे धंस चुकी हैं
उनके गुलाबी होठों की लालिमा
अब बदल चुकी है |
काली कालिमा में
तेजहीन आकृति ,
और झुलसा रही हैं उसे
पश्चाताप की अग्नि |
एक गलती ....................
एच आई वी की एंट्री
विवश हो गयी अब
उत्सुकता के साथ साथ
अंत की प्रतीक्षा ||

        नवीन 

       

19 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी किसी पुरानी बेहतरीन प्रविष्टि की चर्चा मंगलवार २८/८/१२ को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी मंगल वार को चर्चा मंच पर जरूर आइयेगा |धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. दोनों कवितायेँ बहुत बढ़िया हैं दूसरी कविता प्रतीक्षा तो दिल को विव्हल कर गई

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोनों ही कवितायें बहुत ही सुन्दर हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोनों ही कवितायें बहुत ही सुन्दर हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  5. नवीन जी... दोनों ही कवितायेँ प्रभावशाती हैं... विशेषकर प्रथम रचना...शांति की तलाश में भटकता इन्सां खुद ही अशांति के वन् में भटकता रह जाता है..बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  6. शांति की प्रतीक्षा सभी को है।
    सचेत करती अच्छी कविताएं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. dono kavitayein bahut acchi hain...pehle wali kavita say hume sach may sikhna chahiyee

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक में शांति की खोज और एक में मृत्यु की...
    वाह, बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक गलती .. और शान्ति की खोल करती दोनों ही प्रभाव्शाली रचनाएं ...
    लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. शान्ति आपसी समझ में मिलती है ... फिर २ रूपये की चौकलेट भी भूख मिटा देती है

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक गलती ....................
    एच आई वी की एंट्री

    क्या बात है .....
    ये गलतियां पछताने तक का मौका नहीं देतीं .....

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रभावशाली एवं सशक्त कवितायेँ

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक गलती ....................
    एच आई वी की एंट्री
    विवश हो गयी अब
    उत्सुकता के साथ साथ
    अंत की प्रतीक्षा ||
    truth of life .

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुख और शांति अब बहुत ही कम लोगों के पास रह गई है...जिन्हें भौतिक सुख चाहिए उन्हें शांति कहाँ मिल सकती है...सुन्दर रचना के लिए साधुवाद..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. ek galti uf kitni bhabhini prastut hai badhai
    janmdin ki shubhkamna ke liye abhar
    rachana

    उत्तर देंहटाएं