तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

बुधवार, 7 नवंबर 2012

हिंदी की व्यथाएं

    





सदा देश की पीड़ा को कविता के पट पर लिखता हूँ ।
भारत माँ के वक्षस्थल की हर धड़कन को पढ़ता हूँ ।।

विचलित पथ पर भटक रहे हैं हम भारत की व्यथा लिए ।

दंभ खोखले लेकर फिरते इतिहासों की कथा लिए ।।

संस्कार के दीपक की बाती बुझती है अब तेल बिना ।

अंधकार पसरा है जग में भाषाओँ के मेल बिना ।।

लोकतंत्र के इस उपवन में बोलो अब मर्यादा क्या है ।

दुनिया हम से पूछ रही है भारत तेरी भाषा क्या है ?


 
हम गुलाम की प्रबल निशानी को अब गले लगा बैठे ।

राष्ट्र पंगु है निज भाषा बिन स्वाभिमान गवा बैठे ।।

यहाँ गुलामी के प्रतीक की भाषाओँ से लड़ता हूँ ।

स्वाभिमान के लिए सदा सौ सौ जन्मो से मरता हूँ ।।

सदा देश की पीड़ा ......................................।

भारत मां .............................................।


हिन्दुस्तानी परम्परा है सबका तुम सम्मान करो ।
हक कैसे मिल गया तुम्हें है हिंदी का अपमान करो ।।


आजादी के हर मुकाम पर हिंदी है ललकार बनी ।
बलिदानी के गीतों में वह ओजस्वी अंगार बनी ।।


मंगल या  ,आजाद ,हो बिस्मिल सबकी यही कहानी है ।
फाँसी के तख्तो से निकली हिंदी सबकी बानी है ।।


अक्षुण करती  देश एकता गरिमा का इतिहास लिए ।
भारत मन की प्यारी बेटी रोती  क्यों संत्रास लिए ।।


भाषा की है अमर बेल यह भारत की फुलवारी में ।
हिंदी अब तो पनप रही है दुनिया भर की क्यारी में ।।


भारत के कोने कोने को  हिंदी से  मैं  रंगता हूँ ।
अमर रहे हिंदी भारत में दीप प्रज्वलित करता हूँ ।।


सदा देश की पीड़ा को .................................।
भारत माँ  के वक्षस्थल की .........................।।



हिन्दुस्तानी संस्कृति की जननी तो ये  हिंदी है ।
संस्कार के खेतो की  पावन  माटी  सी हिंदी है ।।


जन गन मन के राष्ट्र गान को झंकृत करती हिंदी है ।

बन्दे मातरम देश राग के स्वर में ढलती हिंदी है ।।


सेना के कण कण में सबका मान  बढाती हिंदी है ।

अग्नि या ब्रह्मोस धनुष पृथ्वी को बनाती  हिंदी है ।।


तकनीकी की शब्द श्रृखला रोज बढाती हिंदी है ।

मानवता के खातिर जग को एक  कराती हिंदी है ।।


तुलसी सूर कबीर और रसखान पढाती हिंदी है ।

दिनकर मीरा और निराला से मिलवाती हिंदी है ।।


हिंदी का विरोध जो करते राष्ट्र विरोधी कहता हूँ ।

मैं भारत का भाषा प्रहरी भाषा मान  सजोता हूँ ।।


सदा देश की पीड़ा को ....................।

भारत माँ के वक्षस्थल की  ................।।



भारत की माटी  की भाषा का श्रृंगार करा दूंगा ।
हिंदी के खातिर इस  जग में अपना शीश चढ़ा दूंगा ।।


यहाँ गुलामी के चिन्हों पर मैं तलवार चला दूंगा ।

हिंदी राष्ट्र शीर्ष पर होगी वह आदित्य दिखा दूंगा ।।


देश मिला है बलिदानों से  अभिमान जगा दूंगा ।

हिंदी की मसाल लेकर के हिंदुस्तान जगा दूंगा ।।


देश रहेगा नहीं मूक भाषा का मर्म सिखा दूंगा ।

हिंदी का विरोध करने पर तीखा सबक सिखा दूंगा ।।


सूत्र एकता की  हिंदी  है क्रांति बिगुल बजा दूंगा ।

हिंदी की गरिमा  का मैं तो  नव इतिहास  लिखा दूंगा ।।


भाषा वादी राजनीति  के हर पन्ने को पढ़ता हूँ ।

लोकतंत्र का कला पन्ना छोड़ के आगे बढ़ता हूँ ।।


सारे देश की पीड़ा ..........................................।

भारत माँ के .................................................।।


                           नवीन मणि त्रिपाठी 




19 टिप्‍पणियां:

  1. विचलित पथ पर भटक रहे हैं हम भारत की व्यथा लिए ।
    दंभ खोखले लेकर फिरते इतिहासों की कथा लिए ।।
    संस्कार के दीपक की बाती बुझती है अब तेल बिना ।
    अंधकार पसरा है जग में भाषाओँ के मेल बिना ।।
    नि:शब्‍द करते भाव बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने


    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही हृदयस्पर्शी रचना है नवीन जी .... हर शब्द सीधा हृदय को छू रहा है..अति सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया...
    बहुत बढ़िया रचना.....
    गहन भाव लिए हुए..

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति ,,,,,नवीन जी

    है जिसने हमको जनम दिया ,हम आज उसे क्या कहते है
    क्या यही हमारा रास्ट्रवाद ,जिसका पथ दर्शन करते है,
    हे राष्ट्र्स्वामिनी निराश्रिता ,परिभाषा इसकी मत बदलो
    हिन्दी है भारत की भाषा ,हिन्दी को हिन्दी रहने दो,,,,,,,,,

    मेरे पोस्ट पर बहुत दिनों से नही आये,,,आइये स्वागत है,,,

    RECENT POST:..........सागर

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर और सार्थक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओजस्वी प्रस्तुति - अति सुंदर - हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. bhasha,bhav,shaili........sabhi ke star par ak ojasvi prastuti,badhayee aapko

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुंदर एवं प्रभावशाली रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. भाषा की है अमर बेल यह भारत की फुलवारी में ।
    हिंदी अब तो पनप रही है दुनिया भर की क्यारी में ।।

    क्या बात है .....
    नवीन जी बेहद प्रभावशाली रचनायें हैं सभी .....

    बहुत खूब....!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाषा की है अमर बेल यह भारत की फुलवारी में ।
    हिंदी अब तो पनप रही है दुनिया भर की क्यारी में ।।
    बहुत सुन्दर है सच में सभी ....आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  11. इतने नजदीक रहकर आपसे अपरिचित रही ,इसे अपना दुर्भाग्य समझती हूँ ,खैर अबसे ही सही आपके ज्ञान का लाभ मिलेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सशक्त और प्रभावशाली रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब
    बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  14. भारत के कोने कोने को हिंदी से मैं रंगता हूँ ।
    अमर रहे हिंदी भारत में दीप प्रज्वलित करता हूँ ।।

    हिंदी का रंग और गाढ़ा होकर सब पर चढ़े।

    हिंदी की महिमा का गरिमामय वर्णन करती प्रशंसनीय रचना।

    बधाई और शुभकामनाएं, त्रिपाठी जी।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत शानदार उत्कृष्ट कविता अपनी राष्ट्र भाषा हिंदी के सम्मान में ,देर से पढ़ी खेद है ,बहुत अच्छा लिखा हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह वाह....क्या कहूं इसके बारे में ...सच में हिंदी से ही अपना मान है और हिंदी पर ही अभिमान है .....आंग्ल भाषा बस काम के लिए प्रयोग करता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं