तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

सोमवार, 18 मार्च 2013

गीत

         गीत 
                                               - नवीन मणि त्रिपाठी 


गीत सजे निकले जुबान से ,
मधुमय होठ तुम्हारा है ।
एहसासों  से शब्द थिरकते ,
अरमानों की धारा है ।
मैं तो लुटा दूं जीवन अपना
देश प्रेम की चौखट पर ।
बलिदानों को तुम समझोगे ,
क्या एतबार तुम्हारा है ?


मृत्यु वरण करते किसान हैं ,
भारत तेरी माटी पर ।
भ्रष्ट तंत्र का नव विधान है ।
मानवता की छाती पर ।
बीच सड़क पर चीर खीचते
इक अबला की भारत में ।
फिर भी मौन बने रहते हो ,
ये अपराध तुम्हारा है ॥
बलिदानों को क्या समझोगे
क्या ऐतबार तुम्हारा है ॥


अस्मत बिकती रोज यहाँ है
इज्जत की गलियारों में ।
लग जाते जीवन के मोल हैं
घोटालों के पालों में ।
आह निकलती है गरीब की
मौत की जिम्मेदारी लो ।
सारी दवा बेच खाते हो
कैसा पाप तुम्हारा है !!
बलिदानों को तुम समझोगे ,
क्या एतबार तुम्हारा है ?

बृद्ध जनों की मर्यादा का
होता है उपहास यहाँ ।
आम आदमी के लुटने का
पाओगे आभास यहाँ ।
माँ के पेट में रोती कन्या
टूटी जीवन की आशा ।
नारी के सम्मान का झंडा ??
क्या ये राज तुम्हारा है ??
बलिदानों को तुम समझोगे ,
क्या एतबार तुम्हारा है ?






















11 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...
    बहुत अच्छी रचना...
    बृद्ध जनों की मर्यादा का
    होता है उपहास यहाँ ।
    आम आदमी के लुटने का
    पाओगे आभास यहाँ ।

    बेहद सार्थक...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. लघु नियन्ताओं को चेताती पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर काव्य कृति त्रिपाठी जी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर श्रृजन,लाजबाब गीत के लिए ,,,बधाई,त्रिपाठी जी,,

    Recent Post: सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार,

    उत्तर देंहटाएं
  5. अस्मत बिकती रोज यहाँ है
    इज्जत की गलियारों में ।
    लग जाते जीवन के मोल हैं
    घोटालों के पालों में ...

    आह सी निकलती है दिल से .. एक टीस उठती है आज देश के हालात देख के ...
    सार्थक अभिव्यक्ति है नवीन जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. देश के वर्तमान परिदृश्य पर सार्थक रचना त्रिपाठी जी ,
    साभार......

    उत्तर देंहटाएं
  7. भ्रष्ट तंत्र का नव विधान है ।
    मानवता की छाती पर ।
    बीच सड़क पर चीर खीचते
    इक अबला की भारत में ।

    मार्मिक ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर बेह्तरीन शानदार प्रस्तुति नवीन जी हार्दिक बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut sundar abhivektti. samay mile to aaiyegaa meri post http://santam sukhaya.blogspot.com par aapakaa swagat hai.

    उत्तर देंहटाएं