तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

मंगलवार, 22 जनवरी 2013

सावधान पाकिस्तान !

                            सावधान पाकिस्तान !



निर्दोषों    का   लहू   पुकारे , अब   जबाब   देना   होगा ।
गीदड़   बन   कर  सर  काटोगे, तो   हिसाब  देना होगा ।।

चुन  चुन  कर  तुम खूब भेजते, आतंकी की  फ़ौज यहाँ ।
बिना  मौत   मारे  जाते  हैं, तेरे   विषधर   रोज   यहाँ ।।

घोर   निराशा  अंधकार  में,  पहुँच   चुका  आतंक  तेरा ।
 फौलादी  हैं  अमन   इरादे , पस्त  हुआ  ये  डंक  तेरा ।।

छल दंभ  द्वेष   पाखण्ड  ईंट   की नीव बनाई है  तुमने ।
झूठ  राग  व  गहन  कुटिलता   को  अपनाई है तुमने ।।

लादेन  की मौत पे नंगा , विश्व  पटल   पर नाचा था ।
धूल  झोकने  वाले  का तो  निकल चुका  दीवाला था ।।

फिर कसाब की फांसी पर क्यों तुमको शर्म नहीं आयी ।
तेरा  भेजा  आतंकी  था,  तेरी  लाज  न   बच   पायी ।।

अजहर  दाउद  व   हाफिज   का  तू  ही   पालनकर्ता है ।
दिल्ली   हो   कंधार   मुंबई,  दहशत   गर्द   प्रणेता  है ।।

अग्नि  बीज   बोया है तुमने अब  तुमको जलना होगा ।
अंगारों  पर  चलने  का  तो  स्वाद  तुम्हें  चखना होगा ।।

निर्दोषों   का   लहू   पुकारे   अब   जबाब   देना  होगा ।
गीदड़  बन  कर  सर  काटोगे , तो हिसाब करना होगा ।।

*     *        *           *              *           *           *

तालिबान  को  पाल - पोश  कर ,  सर्प  बनाने वाले हो ।
अमेरिका  के    निर्दोषों   को  तुम   मरवाने   वाले  हो ।।

तुम  पंजाबी  अमन  चैन  के  खून  खराबा  वाले  हो ।
करगिल  काली  करतूतों  से  जान  बचाकर  भागे हो ।।

यहाँ  मुंबई  बम  कांड  के   साजिश   रचने  वाले  हो ।
होटल  ताज  जलाने  वाले  कितने  दिल  के  काले हो ??

लोकतंत्र  के  भक्षक  हो  तुम  संसद  के  हमलावर हो ।
पीठ  दिखा  कर   जाने वाले   इकहत्तर के  धावक  हो ।।

बेशर्मी की  ताज  पहन  कर  राज  करोगे क्या अब तुम ।
विश्व  समझता खूब  है तुमको  सीधी  हो जायेगी  दुम ।।

तुम दुनियां  को  ठगने  वाले   नीति  भ्रष्ट  नियंता  हो ।
धोखेबाजी  है  नस  नस  में  क्रूर  सत्य  के  हन्ता हो ।।

राक्षस  हो  तुम  मानवता  के अब तुमको मरना  होगा ।
सत्य अहिंसा  की  शक्ति से तिल तिल  क्र जलना होगा ।।

निर्दोषों   का    लहू   पुकारे  , अब  जबाब   देना   होगा ।
गीदड़  बन  कर  सर  काटोगे, तो   हिसाब  देना   होगा ।।

*            *                  *               *              *          *

पाक  तेरे  नापाक   इरादों   से  भारत  भी   वाकिफ   है ।
पाप  तुम्हारा  सर  चढ़  बोले  दंड  मिले अब वाजिब है ।।

लोकतंत्र   को  डसने  वाले  आडम्बर   क्यों  करते   हो ।
खोल   फैक्ट्री   आतंकी  की  चाल   फरेबी  चलते   हो ।।

विध्वंसक  है   नीति   तुम्हारी  मानवता  अपराधी  हो ।
हाथ   रंगा  मासूम  रक्त  से   दुनियां   के  संतापी   हो ।।

हाय  लगी  है   मानवता   की   नष्ट  भ्रष्ट  हो  जाओगे ।
कायरता  वाली  करनी  से  अस्त   सदा   हो  जाओगे ।।

कश्मीर है  भारत का  सिरमौर  समझ  ले  आज अभी ।
देर   हुई    तो   पायेगा   रावलपिंडी   खो   गया  कहीं ।।

हमें  बलूच  पंजाब   प्रान्त  को  देश  बनाना  आता है ।
दुश्मन  को   दुश्मन  की  भाषा  में समझाना आता है ।।

भारत  के  हर  अपराधी  को  अब  तुमको  देना  होगा ।
भारत  माँ   के  शर्तों  पर  ही  अब  जीवन जीना होगा ।।

निर्दोषों    का   लहू  पुकारे ,अब   जबाब   देना   होगा ।
गीदड़  बन  कर  सर  काटोगे, तो   हिसाब  देना होगा ।।

*                *                  *                *             *

विश्व  तुम्हारी  कायरता  को   हैरत  से  अब देख रहा ।
तेरे घृणित कारनामो पर  जी  भर तुमको  कोस  रहा ।।

छ्दम  युद्ध  आतंक  सहारे  कुछ  बिगाड़  न  पाओगे ।
लक्ष्मण  रेखा  पार  करोगे  स्वयं  भस्म  हो जाओगे ।।

तेरे   स्वागत   की   खातिर   बारूद   बिछाए  बैठे  हैं ।
बम  परमाणु  के  निशान  पर  तुमको  लाये  बैठे हैं ।।

तेरी  गीदड़  भभकी  से  अब  कोई  फर्क  नहीं पड़ता ।
बातों  के  हो  भूत  नही  लातों  से  जाती  है  जड़ता ।।

पलक  झपकते  मानचित्र  से  तू  गायब  हो जाएगा ।
तेरी  करनी   ले   डूबेगी  शांति   मार्ग  खो   जायेगा ।।

तेरा   सारा   अहंकार   सब   यहाँ   धरा   रह  जाएगा ।
आतंकी  का  राष्ट्र  सदा  के  लिए  खाक  हो  जायेगा ।।

एक  एक  लाशों  का  कर्जा  ब्याज सहित भरना होगा ।
काश्मीर  का   बाकी  हिस्सा  भारत  को   देना  होगा ।।

निर्दोषों   का   लहू  पुकारे , अब   जबाब   देना   होगा ।
गीदड़  बन  कर  सर  काटोगे, तो   हिसाब  देना होगा ।।



                                                    प्रस्तुति - नवीन मणि त्रिपाठी

20 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. namaste naveen ji
      umda jabaab diya hai aapne lahu ab garm ho gaya hai
      josh bharti hui sundar rachna ke liye tahe dil se badhai .

      हटाएं
  2. सटीक और सार्थक प्रस्तुति ....
    पाक तेरे नापाक इरादों से भारत भी वाकिफ है ।
    पाप तुम्हारा सर चढ़ बोले दंड मिले अब वाजिब है ।।

    अब यह ज़रूरी हो गया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक एक शब्द आक्रोशित भाव लिए हुए बहुत सही वीर रस से प्रधान इस बेहतरीन प्रस्तुति हेतु हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह!! क्या सटीक बातें लिखी है आपने गणतन्त्र दिवस के अवसर पर इस से अच्छी जोश भरी प्रस्तुति और कोई हो ही नहीं सकती....बहुत ही प्रभावशाली रचना आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या बात है, बहुत बढिया
    पहली बार आया हूं आप के ब्लाग पर अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  6. मंगलवार 29/01/2013को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं .... !!
    आपके सुझावों का स्वागत है .... !!
    धन्यवाद .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सशक्त पोस्ट .... अतिउत्तम !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया..सटीक और सार्थक रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  9. हर एक पंक्ति में पाकिस्तान को जमकर ललकार लगाई गई है...सुंदर रचना।।

    उत्तर देंहटाएं
  10. त्रिपाठी जी इस जोरदार रचना की बधाई. बिलकुल सटीक बात कही है माँ को खंडित करने वाले लोगो के बारे में.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अक्षम्य बातें कैसे भुला दी जायें भला, उद्वेलित करती पंक्तियाँ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन को उद्वेलित करती रचना,,,,बेहतरीन प्रस्तुति,,,नवीन जी,,,

    ..recent post: गुलामी का असर,,,

    उत्तर देंहटाएं
  13. देश-वासियों के आक्रोश का प्रतिनिधित्व करती बेह्तरीन रचना
    आपके ब्लॉग पर ,बढ़िया है

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत प्रभावी ... बाजुओं में रवानी दौड़ जाती है ...
    हर पंक्ति नव संचार करती ... हुंकार देती ... बेहद लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. जोश से भरी सार्थक रचना ,
    बहुत बढ़िया नवीन जी..........
    साभार.........

    उत्तर देंहटाएं