तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शुक्रवार, 10 जनवरी 2014

रंगीन जश्ने रात मनाता रहा कोई

भूखा    है    नौजवान    जो   रोटी   के    वास्ते |
मिलता   है   लाली   पाप   उसे   लैप   टाप से ||
भत्तों   से   आग   पेट   की   बुझती भला  कहाँ |
ठग  के   गयीं   हैं  उसको  यहाँ  की सियासतें ||

जाड़े   की   सर्द   रात   से   लड़ता   रहा  कोई |
बच्चों   की   मौत   पे  वहाँ   रोता  रहा   कोई ||
नफ़रत का बीज बो के बहुत खुश  मिजाज  हैं |
रंगीन    जश्ने     रात    मनाता    रहा     कोई ||

वो    हौसलों    का   दीप  जलाता   चला   गया |
इमान  चीज   क्या   है , बताता    चला    गया ||
जब  से  जगा  है  देश  का    ये  आम   आदमी |
भ्रष्टों  की   नीद  को   वो   उड़ाता   चला   गया ||

मजहब   के   नाम  पे  किया  उसने   गुनाह  है |
दहशत  के  लिए  भी  यहाँ  उसकी  निगाह   है ||
सरकार निकम्मी हो तो मुश्किल नहीं कुछ भी |
दुश्मन  जो  वतन  के   उन्हें  मिलती पनाह है ||

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही मर्मस्पर्शी.....
    बहुत अच्छी रचना!!

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. जल्दी ही यह नज़ारा बदले. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    उत्तर देंहटाएं
  4. जाड़े की सर्द रात से लड़ता रहा कोई |
    बच्चों की मौत पे वहाँ रोता रहा कोई ||
    नफ़रत का बीज बो के बहुत खुश मिजाज हैं |
    रंगीन जश्ने रात मनाता रहा कोई ||
    संवेदनशीलता नहीं रही समाज में और इन तंत्र के ठेकेदारों में तो खास कर के ... लाजवाब लिखा है समाज की विसंगतियों पर ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ओज से परिपूर्ण...गंभीर अर्थों को प्रस्तुत करती सार्थक रचना।।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. समाज की पीड़ा व्यक्त करती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शाश्वत सत्य को सहजता से बखान करतीं सुंदर पंक्तियाँ...

    उत्तर देंहटाएं