तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2015

हम शबे वस्ल में सिर्फ जलते रहे


उम्र  भर   कुछ   सवालात   चलते   रहे ।
हम  शबे  वस्ल   में   सिर्फ  जलते   रहे ।।

बेवफा  तुमने  कह   तो  दिया  फ़ख़्र  से।
रात  दिन  अश्क  आँखों में  ढलते  रहे ।।

जब  तेरी   शोख   नजरे  इनायत   हुई ।
तुम   मिलोगे  कभी  ख्वाब  पलते  रहे ।।

क्या  भरोसा  करू  तेरीे  जज्बात  का ।
तुम भी मौसम के माफिक बदलते  रहे ।।

फ़िक्र  बदनामियों   की   उन्हें  भी  रही ।
वह  नकाबों   में  घर  से  निकलते  रहे ।।

कुछ   तो   रुस्वाइयां  बर्फ   मानिंद  थीं ।
हसरतों   को   लिए  हम  पिघलते  रहे ।।

इक  तिजारत से दौलत  दफ़न  हो  गयी।
कीमत   ए   हुश्न  पर   हाथ  मलते  रहे ।।

ताल्लुक   मैकदे   की   हवाओं  से  था ।
वह    दुपट्टे   में   अपने  सम्भलते   रहे ।।

        --  नवीन मणि त्रिपाठी

1 टिप्पणी:

  1. जय मां हाटेशवरी....
    आप ने लिखा...
    कुठ लोगों ने ही पढ़ा...
    हमारा प्रयास है कि इसे सभी पढ़े...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना....
    दिनांक 06/12/2015 को रचना के महत्वपूर्ण अंश के साथ....
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की जा रही है...
    इस हलचल में आप भी सादर आमंत्रित हैं...
    टिप्पणियों के माध्यम से आप के सुझावों का स्वागत है....
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    कुलदीप ठाकुर...

    उत्तर देंहटाएं