तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

रविवार, 22 जनवरी 2017

ग़ज़ल - जुर्म की हर इंतिहा को पार कर जाते हैं लोग

2122  2122  2122  212

इस  तरह  कुछ जोश में हद से गुज़र जाते  हैं लोग।
जुर्म  की  हर  इन्तिहाँ  को पार कर  जाते हैं लोग ।।

हर  तरफ  जलते   मकाँ   है  आदमी  खामोश  है ।
कुछ  सुकूँ  के वास्ते  जाने  किधर  जाते  हैं लोग ।।

अहमियत रिश्तों  की  मिटती जा रही इस दौर में ।
है कोई शमशान वह अक्सर जिधर जाते हैं लोग ।।

यह शिकन ज़ाहिर न हो चेहरा न हो जाए किताब।
आईने  के  सामने   कितना  सवर जाते  हैं लोग।।

गाँव  खाली  हो  रहा  कुछ   रोटियों   की  फेर में ।
माँ का आँचल छोड़ कर देखो शहर जाते हैं लोग।।

बाप  की  थीं  ख्वाहिशें  बेटा  निभाए  उम्र  तक  ।
हो बुढ़ापे का  तकाजा  तो  मुकर  जाते  हैं लोग ।।

देखिये   मतलब  परस्ती  का   ज़माना  आ  गया ।
मांगिये  थोड़ी  मदद  तो  खूब  डर जाते  हैं लोग ।।

कौन   कहता  दौलतों   से  वास्ता   उनका   नहीं ।
कुर्सियो  पर  बैठकर  काफ़ी निखर जाते हैं लोग ।।

ऐ  मुसाफिर  यह  हक़ीक़त  भी  हमे  मालूम   है ।
इश्क़ में कुछ ठोकरें  खाकर बिखर जाते हैं लोग ।।

बिक गया मजबूरियों  के नाम  पर  वह हुस्न भी ।
घुंघरुओं  के  बज्म  में  चारो  पहर जाते हैं लोग ।।

भूल  जाना  भी  मुकद्दर  का  बड़ा  तोहफ़ा यहां ।
दर्द  की  तासीर  बन  दिल में ठहर जाते हैं लोग ।।

               --नवीन मणि त्रिपाठी

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (24-01-2017) को "होने लगे बबाल" (चर्चा अंक-2584) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं