तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

सोमवार, 16 जून 2014

--- मै आपका थानेदार हूँ ---

मैं आपका थानेदार हूँ.



मैं इस देश की जनता का ,
सुरक्षा कवच हूँ |
भोले भले लोगों की अच्छी खासी
समझ हूँ |
दिन रात लोगों की भलाई के लिए दौड़ता हूँ |
जरुरत पड़ने पर हड्डियाँ तोड़ता हूँ |
निर्दोषों से भी रूपया ऐठता हूँ |
ना देने पर कानून में लपेटता हूँ |
आप की सेवा के लिए आप का पहरेदार हूँ |
अरे भाई ! अब नहीं समझे ?"
मैं कोई और नहीं ,
मै आपका थानेदार हूँ |
मैं आपका थानेदार हूँ ||


* * * * * * * *


व्यवसाय से मेरा अच्छा
रिश्ता है ,
मेरी दूकान में कुछ महागा
कुछ सस्ता है |
फुर्सत मिले तो,
मेरे सो रूम में आइये |
आपने जरूरत की ,
सारी चीजें ले जाइये |
मसलन .....हत्या बलात्कार
व राहजनी को अपनाइए |
बदले में थोड़ी कीमत चुकाइए |
दस प्रतिशत अधिक टैक्स देने पर
कानून से सुरक्षित रहने का
गारंटी पत्र पाइए |
आपकी सेवा के लिए मै ,
बिलकुल तैयार हूँ |
हाँ बिलकुल ठीक जाना ....
मैं आपका थानेदार हूँ |
मै आपका थानेदार हूँ ||


* * * * * * * * * * *


हम आपकी सेवा के लिए
सदैव तत्पर दिखते हैं |
मेरे व्यवसाय के शेयर,
मार्केट में बिकते हैं |
मेरे शेयर की मार्केट वैलू,
एक महीने में दस गुना हो जाती है |
देखते ही देखते किस्मत बदल जाती है |
मेरी बेब साईट में सीक्रेट फोल्डर हैं |
राज नेता तो मेरा बड़ा शेयर होल्डर है |
कला बाजारी एस्मग्लिंग फंड ,
की मार्केट तेज है |
इसमे पैसा लगाने में कुछ नहीं गुरेज है |
फार्म उपलब्ध हैं ले जाइये |
अपनी मन पसंद स्कीम में पैसा लगाइए |
अपनी कंपनी के लिए ,
आप से सहयोग का हक़दार हूँ |
समझ गये ना ....!
मैं आप का थानेदार हूँ |
मैं आप का थानेदार हूँ ||


* * * * * *


मेरे सो रूम में आइये ,
आर्थिक मंदी का लाभ उठाइए |
डकैती हत्या बलात्कार पर ,
पचीस प्रतिशत की छूट है|
अपहरण छेड़खानी और जाली नोटों पर ,
लूट ही लूट है |
अवैध गाँजा शराब जुवाखोरी व चकलाघर,
पर विशेष स्कीम है |
रेट लिस्ट के लिए दीवान जी मुनीम है |
अगर आप को कोई घर या जमीन कब्ज़ा करना है |
अथवा शहर में कोई दंगा करना है |
तो इसका टैक्स थोडा ज्यादा पड़ता है |
क्यों की इसमें तो पुलिस वाला भी मरता है |
इसके ग्राहक तो हमारे पार्टनर नेता हैं |
सीधे साधे समाज के प्रणेता हैं |
आप की सेवाओं के लिए ,
मैं काफी दमदार हूँ ,
सोच ले भाई .....
मैं आप का थाने दार हूँ |
मैं आप का थानेदार हूँ ||


* * * * * *


मेरी दूकान में हर चीज बिकती है |
शो रूम की आखिरी लाइन
कुछ खास दिखती है |
यकीन नहीं तो यकीन हो जायेगा
तुम्हारा भ्रम सत्त्यता में विलीन हो जायेगा|
देखो ! ये है फर्जी अन्कौन्टर के सफल रिकार्ड |
प्रोन्नति पाने के स्मार्ट कार्ड |
पचास प्रतिशत का आफर देता हूँ .
बाकी सरकार से कम लेता हूँ|
निर्दोष को क्रिमनल बना देता हूँ |
हर तरफ नाम कमा लेता हूँ |
वैसे मैं बेचने को अपनी आत्मा भी बेचता हूँ
ठीक ठाक खरीदार ढूंढता हूँ |
इमान तो रोज बिकते हैं .
आत्मा के ग्राहक काम मिलते हैं |
मुझे उम्मीद है एक दिन कोई बड़ा ग्राहक |
एक नेता ही आएगा |
मेरी आत्मा को ले जायेगा |
मेरे ही किसी अपने का क़त्ल कराएगा \
धंधे की बातों का मै दानेदार हूँ |
अगर अब भी नहीं समझे .......
तो जल्दी समझ जाओगे |
मैं आपका थानेदार हूं |
मैं आपका थानेदार हूँ ||

         नवीन


11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (17-06-2014) को "अपनी मंजिल और आपकी तलाश" (चर्चा मंच-1646) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  2. मस्त मस्त प्रस्तुति -
    आभार भाई जी-

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भाव और यथार्थ दर्शाती पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. देखो ! ये है फर्जी अन्कौन्टर के सफल रिकार्ड |
    प्रोन्नति पाने के स्मार्ट कार्ड |
    पचास प्रतिशत का आफर देता हूँ .
    बाकी सरकार से कम लेता हूँ|
    निर्दोष को क्रिमनल बना देता हूँ |
    हर तरफ नाम कमा लेता हूँ |
    वैसे मैं बेचने को अपनी आत्मा भी बेचता हूँ
    ठीक ठाक खरीदार ढूंढता हूँ |
    इमान तो रोज बिकते हैं .
    आत्मा के ग्राहक काम मिलते हैं |
    मुझे उम्मीद है एक दिन कोई बड़ा ग्राहक |
    एक नेता ही आएगा |
    मेरी आत्मा को ले जायेगा |
    मेरे ही किसी अपने का क़त्ल कराएगा \
    धंधे की बातों का मै दानेदार हूँ |
    अगर अब भी नहीं समझे .......
    तो जल्दी समझ जाओगे |
    मैं आपका थानेदार हूं |
    मैं आपका थानेदार हूँ ||
    बहुत सुन्दर नवीन जी ! निर्भीक अभिव्यक्ति !
    नौ रसों की जिंदगी !

    उत्तर देंहटाएं
  6. तीखी धार है व्यंग की ... बहुत लाजवाब है हर छंद ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. त्रिपाठी जी, आपने बातों बातों में सत्य समाविष्ट किये बहुत बातें कह दी है. मैं बस इतना कहूँगा कि ढेरों बधाई के हकदार है.

    उत्तर देंहटाएं