तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शनिवार, 28 जून 2014

खिड़की खुली रखोगे तो आएँगी बहारें

गजल


मुद्दत   के   बाद   चाँद   दिखा    छत पे तुम्हारे ।
दीदार    ए   जश्न    ईद    हुई    दिल  में  हमारे ।।

इस जुस्तजूँ  का  ख्वाब  सजोता  रहा फ़कीर।
ढूढेंगे   हम  भी   दिन   में   आसमान में  तारे ।।

बरसात  के  मौसम   की  हवाओं  का है असर।
बदले    हुए    मिजाज    हैं   बदले    से  नज़ारे ।।

कमजर्फ   ज़माने   में    गजल   हो  ना बेअसर।
अंग्रेजियत   में   ढल   रहे    हैं   रोज   कुवाँरे ।।


नफ़रत  की  बात  कर ना नसीहत की बात कर ।
खिड़की    खुली   रखोगे    तो   आएँगी बहारें ।।

बादल    बरस    के   जायेंगे  , उम्मीद  बेपनाह ।
तपती   जमीं   की   प्यास    तो   बेसब्र निहारे ।।

हलचल   हुई   है   तेज , हैं  मदहोश सी   लहरें ।
शायद   भिगो  के   जायेंगी   वो  जलते किनारे।।

           नवीन

9 टिप्‍पणियां:

  1. नफ़रत की बात कर ना नसीहत की बात कर ।
    खिड़की खुली रखोगे तो आएँगी बहारें ।।

    बहुत ही बढिया ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन हुनर की कीमत - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (29-06-2014) को ''अभिव्यक्ति आप की'' ''बातें मेरे मन की'' (चर्चा मंच 1659) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  4. खिड़की का खुला रहना जरुरी है ताज़ी हवाओं के लिए !
    अच्छी ग़ज़ल !

    उत्तर देंहटाएं
  5. नफ़रत की बात कर ना नसीहत की बात कर ।
    खिड़की खुली रखोगे तो आएँगी बहारें ।।
    ...वाह...बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया रचना व लेखन , आदरणीय धन्यवाद !
    ब्लॉग जगत में एक नए पोस्ट्स न्यूज़ ब्लॉग की शुरुवात हुई है , जिसमें आज आपकी ये पोस्ट चुनी गई है आपकी इस रचना का लिंक I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर है , कृपया पधारें धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही उम्दा ग़ज़ल ... हर शेर लाजवाब ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्यारा गजल ......................हलचल हुई है तेज , हैं मदहोश सी लहरें ।
    शायद भिगो के जायेंगी वो जलते किनारे।।अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं