तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

बुधवार, 25 जून 2014

बाप

बाप

एक दायित्व
जीवन की महत्वपूर्ण चुनौती
सफल  असफल की
संवेदन शील कसौटी
सब कुछ निर्भर हो जाता है
बच्चो की तरक्की पर
उनकी उपलब्धि पर
सारा मान सम्मान
सामाजिक अभिमान
उपदेशात्मक ज्ञान
अनुभवों की शान
सब कुछ शून्य बन
उपहास की क्रीड़ा कर जाती है
जब बच्चो की प्रगति
पीड़ा दे जाती है ।।

-----------------------

बाप समाज के
विष दंशों को
सहने के लिए विवश होता है।
अंतर्वेदना में निहित
 प्रत्येक दिवस होता है ।
चेहरे की मुरझाई झुर्रियां
हारा हुआ व्यक्तित्व
सब कुछ गवाही देते है
अनसुलझा उत्तर दायित्व ।।
मूक प्रस्तर की तरह
भविष्य को निहारता हुआ
जीवन की कडियों को पिरोता हुआ।
समय का कुचक्र
उसे लूट जाता है ।
और अंततः उसके
सपनो का महल बिखर कर
टूट जाता है ।।

-------------------------

कौन समझेगा
बाप की अनुभूतियों को
मौन स्वर की सिसकियों को
जीवन के एक पड़ाव पर
उम्र के ठहराव पर
लुप्त हो जाती हैं लोगों की संवेदनाये
घर कर जाती है
स्वार्थी भावनाए
सब बीबी बच्चों में मस्त ।
होने लगता है
संस्कारों का सूरज अस्त।
सबको अपने हिस्से की अपेक्षा ।
बाप के म्रत्यु की प्रतीक्षा ।।

-------------------------

                              नवीन

8 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. आदरणीय गाफिल जी फेसबुक पर आप कहाँ मिलते हैं ? मैंने आपको ढूढ़ा पर आप नहीं मिले कृपया लिंक भेजें ।

      हटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन नायब सूबेदार बाना सिंह और २६ जून - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया रचना व लेखन , आदरणीय नवीन भाई धन्यवाद !
    ब्लॉग जगत में एक नए पोस्ट्स न्यूज़ ब्लॉग की शुरुवात हुई है , जिसमें आज आपकी ये पोस्ट चुनी गई है आपकी इस रचना का लिंक I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं