तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

रविवार, 1 मई 2016

गीत

" नवगीत "

हो गयी बिम्बित किसी अनुबन्ध की अभिव्यक्ति सी ।
वासना  की  ध्वनि   सदा  गुंजित  हुई  अतृप्ति  सी ।।

मेघ  अभिशापित धरा  को  देखता  है ।
क्यों कुमुदिनी पर भ्रमर की रिक्तता है ।
स्फुटित  स्वर  में  प्रणय  संलिप्तता है ।
मौन  पर   स्थिर   हुई   स्निग्धता  है ।।

फिर उपेक्षित सर्जना कुंठित लगी परित्यक्ति सी ।
वासना की ध्वनि  सदा गुंजित  हुई अतृप्ति सी ।।

कुछ विहग की रीति में भी द्वन्द होगा ।
चिर व्यथाओ में  छिपा आनंद  होगा ।।
कुछ क्षुधा का वेग किंचित मन्द होगा ?
वाटिका में क्या सुलभ मकरन्द होगा ?

हिमखण्ड से निकली नदी बहने लगी अनुरक्ति सी।
वासना  की  ध्वनि  सदा  गुंजित  हुई  अतृप्ति सी ।।

बाँसुरी   की  प्रीति  अधरों  से  सदा  है ।
राग  का  स्वर  किन्तु  प्रहरों से बंधा है ।।
सेतु  का  विस्तार  लहरों  से  सजा  है ।
ज्वार का उन्माद कब किसको पता है ।।

रक्तिम आभा को लिए तुम नेह की निष्पत्ति सी ।
वासना  की  ध्वनि सदा गुंजित हुई अतृप्ति सी ।।

व्योम  में अनुनाद  की आवृत्ति  जीवित ।
कण्ठ  से  अनुराग  के  है गीत मण्डित ।।
हो  रही  कोई  बसन्ती  गन्ध  मुखरित ।
हाँ किसी मधुमास का यौवन सुशोभित ।।

अब घटा समदृश्य अलकें हो गयीं आसक्ति सी ।
वासना की ध्वनि सदा  गुंजित  हुई अतृप्ति सी।।

उर के अंतर  में  लिखी तुम  कामना हो ।
सिद्ध  जीवन  मन्त्र की तुम साधना हो ।।
छंद  की  कल्पित  समर्पित  भावना  हो ।
तुम निशा  की  जीत की  प्रस्तावना  हो ।।

है दृष्टि से तेरी छुवन अब पीर की उन्मुक्ति सी ।
वासना की ध्वनि सदा गुंजित हुई अतृप्ति सी ।।

                         -- नवीन मणि त्रिपाठी

1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (02-05-2016) को "हक़ मांग मजूरा" (चर्चा अंक-2330) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    श्रमिक दिवस की
    शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं