तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

बुधवार, 19 अगस्त 2015

मनुहारों का गीत लिखूंगा

---***गीत***---

        
                      मनुहारों    का   गीत  लिखूंगा ।
                      मैं भी मन  का  मीत  लिखूंगा ।।

सौंदर्य   की   सहज  कल्पना ।
जीवन  की   अतृप्त   वासना ।
भावो   की   निर्द्वन्द  सर्जना ।
अंतर्मन   की   विरह   वेदना ।
निर्ममता   की   घोर  यंत्रणा ।
गयी  सिमट  सी मूल चेतना ।।

                     अंधकार   की  छाती   पर  मैं 
                     आशाओ का जीत  लिखूंगा ।।
                     मनुहारों   का  गीत  लिखूंगा ।
                     मैं भी  मन का  मीत  लिखूंगा ।।

घूँघट  पट   में  चाँद  सलोना।
महक उठा तन का हर कोना।
उर - स्पंदन   गुंजित   होना ।
भावुकता   का   रंग  पिरोना ।
धरती  प्यासी व्याकुल  होना ।
मेघों  का वह तपन  भिगोना ।

                      पायलिया की  छमछम मादक 
                      नूपुर   का  संगीत   लिखूंगा।।
                      मनुहारों   का  गीत  लिखूंगा ।
                      मैं भी मन  का  मीत लिखूंगा ।।

अंगड़ाई   में  मधुरिम  यौवन ।
तरुणाई सा  बहका  चितवन ।
इच्छाओं का  अद्भद  मधुवन।
प्रणय गन्ध विखराता उपवन।
अलक छटा लहराती बन ठन।
आलिंगन को व्यकुल तनमन ।

                सत रज तम में प्रीति  मिलाकर
                नव जीवन  का रीत  लिखूंगा ।।
                मनुहारों   का  गीत   लिखूंगा ।
               मैं भी मन  का  मीत  लिखूंगा ।।

जब   अलंकार   श्रृंगार   खिले।
तब आकर्षण  प्रतिकार  मिले ।
फिर  रात्रि  याचना  दीप  जले ।
आसक्ति   व्यथाओ  में  बदले । 
हिमखण्ड  हुए पिघले  पिघले ।
फिर ज्वार कहाँ उनसे सम्भले।

               प्रिय के  ऊष्ण  कपोलों  पर  मैं ,
               तृप्ति  मिलन का शीत लिखूंगा ।
               मनुहारों   का   गीत   लिखूंगा ।
               मैं  भी  अपना  मीत   लिखूंगा ।।

                              -नवीन मणि त्रिपाठी

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (21.08.2015) को "बेटियां होती हैं अनमोल"(चर्चा अंक-2074) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावों और शब्दों का अद्भुत संयोजन ...लाज़वाब गीत

    उत्तर देंहटाएं
  3. अत्यंत सुंदर भावपूर्ण गीत. बधाई हो नवीन जी इस प्रस्तुति के लिए.

    उत्तर देंहटाएं