तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

शनिवार, 5 मार्च 2016

लहू गर हो बहुत गन्दा तो गद्दारी नहीं जाती

पराये  मुल्क  से   उसकी   वफादारी  नहीं  जाती ।
लहू  गर  हो  बहुत  गन्दा  तो  गद्दारी  नहीं जाती ।।

वतन के कातिलों  से ये  जमाना  हो गया वाकिफ।
मगर  क़ानून  घायल   हो  तो  लाचारी नही जाती ।।

अमन  जिन्दा रहे  या ख़ाक  हो  जाए फसानों  में ।
सियासत  की जुबाँ से अब तो बीमारी नहीं जाती ।।

जेहन  दारों  से  रोजी  छीन बैठे  हैं  सियासत  दां ।
है  सीना   तान  के  बैठी  ये  बेकारी  नही  जाती ।।

चमन  तकसीम  करने  का  इरादा  जो  लिए  बैठा।
रोजे  में  कबूली   उसकी   इफ़्तारी   नहीं   जाती ।।

बहुत  टुकड़ों में  तुमने  काटना चाहा हमे  अक्सर ।
तिरंगे  से   मिली  मुझको ये खुद्दारी  नहीं  जाती ।।

वो  दहशत  गर्द  हिन्दू  न  मुसलमाँ  न  ईसाई  है ।  
 हुकूमत  हो जो शैतानी तो  मक्कारी नहीं जाती ।।

तू  हिंदुस्तान  से आजाद  होने  का  तकाजा  रख ।
नज़र  से  गिर के भी  बेशर्म  मुख्तारी नही जाती ।।

मदरसे  जो  पढ़ाते  पाठ  दहशत गर्द का दिल्ली ।
रियायत  से  कभी  इनपर  महामारी  नहीं जाती ।।

वो  जिम्मेदारियों  का  हर  लबादा  फेंक  बैठा  है ।
नौकरी  यूं  बड़े   सस्ते  में  सरकारी  नहीं  जाती ।।

कालिख  रोज  धो चेहरे  से पर मिटती नहीं  है ये ।
बयानों  को  बदलने  से  तो दुस्वारी  नहीं  जाती ।।

होश  में आ शहीदों से  गुनाहों पर  तू  कर  तौबा ।।
दुश्मन  ए  हिन्द  तेरी  क्यूँ  नशाकारी नहीं जाती ।।

       --नवीन मणि त्रिपाठी

1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (07-03-2016) को "शिव का ध्यान लगाओ" (चर्चा अंक-2274) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं