तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

रविवार, 15 मार्च 2020

हमें अहसास मक़तल का फना होने से पहले था

-ग़ज़ल-

सजाए मौत का ख़तरा ख़ता होने से पहले था ।
हमें अहसास मक़तल का फना होने से पहले था ।।

बदलती है ये फ़ितरत एक दिन इंसान की ख्वाहिश ।
तेरा अंदाज़े उल्फ़त तो जफ़ा होने से पहले था ।। 

बरसतीं रह गईं आंखें भी उसकी हिज़्र में देखो ।
बहुत मग़रूर जो तुझ पर फ़िदा होने से पहले था ।।

कफ़स में कैद करके तू बना बैठा यहाँ मुजरिम  ।
जहां आजाद मेरा दिल तेरा होने से पहले था ।।

 तुम्हारे हुस्न से जब जाम छलकेगा तस्व्वुर कर ।
कोई बेहोश महफ़िल में नशा होने से पहले था ।।

हुए कुर्बान जिसकी इल्तिजा पर हम यहाँ यारो ।
वही दुश्मन हमारा रहनुमा होने से पहले था ।।

उजाला बन के बिखरा है रक़ीबों के दिलों में अब ।
मेरा महबूब जो इक दिन जुदा होने से पहले था ।।

न हम तूफ़ाँ से टकराते अगर वो मान जाते तो ।
बहुत छोटा मेरा मुद्दा बड़ा होने से पहले था ।।

तेरी तक़रीर सुनकर याद आया है फ़साना फिर ।
बुरा इंसान तू भी मुस्तफ़ा होने से पहले था ।।

मुकद्दर ही बदल डाला जो जलती आग में तपकर ।
सुना बदरंग वो सोना खरा होने से पहले था ।।

तेरी रहमत से मुमकिन था इलाजे इश्क़ ऐ ज़ाना ।
बड़ा मायूस ये आशिक दवा होने से पहले था ।।

        --डॉ नवीन मणि त्रिपाठी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें