तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

रविवार, 15 मार्च 2020

कि मैं रिंद हूँ मैकदा चाहता हूँ

***ग़ज़ल ***

रहे   तू   जहाँ   वो   फ़िज़ा  चाहता  हूँ ।
मैं दैर-ओ-हरम  का  पता  चाहता हूँ ।।1

तेरी  खुशबुओं  से   मुअत्तर  चमन  में ।
महकती   हुई   इक  सबा चाहता  हूँ ।।2

मेरी चाहतों  से  है  वाकिफ़ ख़ुदा जो ।
उसे  क्या  बताऊँ  मैं  क्या चाहता हूँ ।।3

है दोज़ख़ या जन्नत बताने की  ख़ातिर ।
तेरे   इश्क़   का  फ़लसफ़ा  चाहता हूँ ।।4

सलामत   रहे   बेख़ुदी   उम्र   भर  ये ।
न  उतरे  कभी  वो  नशा  चाहता हूँ ।।5

समझ ही न पाया मैं मज़मून ख़त का ।
सनम का ही अब तर्जुमा  चाहता हूँ ।।6

मुझे  यूँ  ही  तन्हा ही  रहने दो यारों ।
अभी   हिज्र  का  तज्रबा  चाहता   हूँ ।।7

विसाले सनम को ख़बर मेरी ख्वाहिश ।
के  मैं  रिंद  हूँ  मयक़दा  चाहता  हूँ ।।8

जो बीनाई में हैं मुहब्बत के मंजर ।
उन्हीं पर तेरा तब्सिरा चाहता हूँ ।।9

रक़ीबों की महफ़िल में जाने से पहले ।
तेरा हाले दिल पूछना चाहता हूँ ।।10

मैं शाइर हूँ मेरे कलम को न रोको ।
ग़ज़ल से नया सिलसिला चाहता हूँ ।। 11

     - नवीन मणि त्रिपाठी

3 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया ग़ज़ल।
    कभी तो दूसरों के ब्लॉग पर भी अपनी टिप्पणी दिया करो।

    जवाब देंहटाएं


  2. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 18 मार्च 2020 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. Hey admin!! These images and quotes are very beautiful. Thank you so much for sharing this. Romantic Whatsapp Images

    जवाब देंहटाएं