तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

बुधवार, 30 नवंबर 2011

तुझे मेरी वफाओं से ....

तुझे  मेरी  वफाओं  से  शिकायत  हो  गयी होगी |
बहुत रोका था नज़रों को हिमायत हो गयी होगी ||

इन  फिजाओं  में  भी,  महकी  है कोई  कस्तूरी |
किसी फतबे के  साए में हिदायत  दी गयी होगी ||


किसी पाजेब की घुघुरू की खनक रात भर आयी |
किसी की शाम  पे नज़रें इनायत  हो गयी होगी ||
   
चाँद   आया   था   तेरे   बज्म  में  शरमाया  सा |
बड़े  बेमोल  लम्हों  में  रियायत  हो  गयी होगी ||
                                                            - नवीन

5 टिप्‍पणियां:

  1. tripathi ji

    sadhuvaad

    aesi ras mayi rachna ke liye.

    main sahityakar to nahi par ek prashanshak ke roop me main kah raha hoon ki aapki kavitae jabardast hain


    sadhuvaad fir se


    ashutosh jha

    उत्तर देंहटाएं
  2. बड़े बेमोल लम्हों में रियायत हो गयी होगी ||
    jitni satik utni hi prabhavi ....kalam ka anubhav jhalak raha hai !! sundar se bhi kuch aur jyada !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी है गज़ल.. बहुत आसानी से गाई जा सकती है.. भाव खुलकर व्यक्त हुए हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं