तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

बुधवार, 23 नवंबर 2011

दो गज़लें

                                           दो गज़लें 

                          - नवीन मणि त्रिपाठी 
                                     G1/28 अर्मापुर इस्टेट
                                         कानपुर-०९८३९६२६६८६

यहाँ सस्ता नहीं कुछ भी, यहाँ तो  नाम बिकता है |
तुम्हारे  जहाँ   का  ईमान , तो  बेदाम  बिकता  है || 

सिसकती माँ के आँचल से तड़प कर भूख से रोया |
मिला कर दूध में पानी, तो  सुबहो शाम बिकता है ||  

वो  लज्जा है ,हया  है ,शर्म  है ,आँखों  का  पानी है |
शहर में आबरू अस्मत भी  खुले आम  बिकता है ||
उसे बिकता हुआ देखा तो  अश्कों ने  भिगो डाला |
करूं क्या  एक  की चर्चा, यहाँ  आवाम बिकता है ||
बाप  मजबूर  था , बेटी  का दूल्हा  ला नहीं पाया |
मंडी  में  यहाँ  दूल्हा  भी   एक  दाम  बिकता  है ||

मौत   की   खातिर  शुकूं  ढूढ़ा   इसी  बाज़ार  में  |
 क्या  खबर  थी  अब  यहाँ  कोहराम  बिकता  है ||

वो  शातिर है  वो झूठा है जमाना  खूब वाकिफ है |
उसी   ताज  है  हासिल  यहाँ   ईनाम  बिकता  है ||

बेचने  वालों  ने  छोड़ा  नहीं  कुछ  भी  यहाँ  यारों  |
कहीं जीसस ,कहीं अल्ला कहीं पर राम बिकता है ||


                     २


वतन   की  आबरू  को  दागदार  मत करना |
चमन की खुशबुओं को शर्मशार मत करना ||

वो   परिंदा  है    कहीं  उसका    बसेरा   होगा |
इसी   दरख्त  पे  तुम  इंतजार  मत  करना ||

साजिशों  का  है  चलन  अब  तेरे मैखाने में |
किसी  पैमाने  का  तुम  ऐतबार मत करना ||

कभी मंदिर कभी मस्जिद से पुकारा तुमने |
वही  तो  एक  है   उसमें  दरार  मत  करना ||

ये  गोलियां  ये  धमाके  हैं  कायरों के करम|
बे  कसूरों  पे  कभी  दर्दे  वार   मत   करना ||

आज फिर भूख ने मांगी है जिन्दगी उसकी |
किसी की रोटियों  को  यूँ  फरार मत करना ||

भारती  माँ  है  रोज़  इसकी  इबादत  करना |
माँ  के आंशू  को  कभी नागवार मत करना || 

1 टिप्पणी:

  1. वाह! क्या बात है? वैसे एक मसयने में यहां सबकुछ सस्ता है जैसे इज्जत, मान मर्यादा अस्मत आदि क्या नहीं सस्ता है? जब चाहो ख़रीद लो, जब चाहो बेच दो।

    उत्तर देंहटाएं