तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

बुधवार, 30 नवंबर 2011

मीत बन के कहानी बुनो तो सही

मीत बन  के  कहानी  बुनो   तो   सही |
तुम हृदय से हृदय  में  घुलो  तो  सही || 

स्वर जगा दूंगा होठों से सरगम  का मै|
बांसुरी बन के मुझको मिलो  तो  सही ||

पुष्प    राहों   में   तेरे   बिखर   जायेंगे |
दो  कदम   साथ   मेरे  चलो  तो  सही ||

तार   उलझे   हुए  जो   सुलझ  जायेंगे |
जिन्दगी  की  लिए  तुम ढलो तो सही ||

कब  तलक  बर्फ  बन  के जमोगे यहाँ ?
इस प्रणय अग्नि में कुछ गलो तो सही ||


जिन्दगी   के  अंधेरों  से  लड़  लूँगा  मैं |
एक  बाती  की  लव  बन जलो तो सही ||
                                                            -नवीन

21 टिप्‍पणियां:

  1. अरे वाह बहुत ख़ूबसूरत ग़ाज़ल लिखी है आपने त्रिपाठी जी!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वर जगा दूंगा होठों से सरगम का मै|
    बांसुरी बन के मुझको मिलो तो सही ||

    जिन्दगी के अंधेरों से लड़ लूँगा मैं |
    एक बाती की लव बन जलो तो सही ||

    बहुत सुन्दर गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  4. सहज प्रवाह ...
    बधाई और शुभकामनायें स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 05-12-2011 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्वर जगा दूंगा होठों से सरगम का मै|
    बांसुरी बन के मुझको मिलो तो सही ||

    बेहतरीन गज़ल

    इस पोस्ट पर मैंने पहले भी टिप्पणी भेजी थी किन्तु उसे यहाँ न देख फिर से टिप्पणी भेज रही हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिन्दगी के अंधेरों से लड़ लूँगा मैं |
    एक बाती की लव बन जलो तो सही ||
    नवीन जी ,
    आपके मन से निकले उदगार बहुत ही सुंदर हैं । मेरी कामना है कि आप निरंतर लिखते रहें । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मीत बन के कहानी बुनो तो सही | bahut sundar ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्छी गज़ल नवीन भाई जी...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  10. तार उलझे हुए जो सुलझ जायेंगे |
    जिन्दगी की लिए तुम ढलो तो सही ||
    kamal ati sunder
    badhai

    उत्तर देंहटाएं
  11. aapki sari kavitaye ham pdh lenge
    aap yoon hi likhte rahiye to sahi....
    umda prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. नाम राशि जी, नमस्कार। आप के ब्लॉग पर आज घुमक्कड़ी की। रचनाधर्मिता के प्रति आप का समर्पण सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर....
    प्यारी रचना.
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत दिनों के बाद आप दिखीं ,लेकिन आपके पोस्ट-ब्लॉग नहीं दिख रहे .... ??

      हटाएं
  15. आप के मन-मुराद पूरे हो
    संग्रहनीय रचना
    शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं