तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

गुरुवार, 10 मई 2018

ग़ज़ल --परिंदा रात भर बेशक़ बहुत रोता रहा होगा

1222 1222 1222 1222
कफ़स में ख्वाब उसको आसमाँ का जब दिखा होगा ।
परिंदा    रात   भर   बेशक   बहुत  रोता  रहा   होगा ।

कई  आहों  को  लेकर  तब  हजारों  दिल  जले  होंगे । 
तुम्हारा  ये  दुपट्टा  जब   हवाओं   में   उड़ा    होगा ।।

यकीं   गर   हो  न  तुमको  तो  मेरे  घर देखना आके।
तुम्हरी  इल्तिजा  में  घर  का  दरवाजा  खुला  होगा ।।

रकीबों   से   मिलन  की  बात  मैंने  पूछ  ली   उससे।
कहा  उसने  तुम्हारी  आँख  का  धोका  रहा  होगा।।

बड़े  खामोश  लहजे में  किया  इनकार था  जिसने ।
यकीनन  वह   हमारा  हाल   तुमसे  पूछता  होगा ।।

उठाओ रुख से मत पर्दा यहां आशिक  मचलते  हैं ।
तुम्हारे  हुस्न  का  कोई  निशाना  बारहा   होगा ।।

तबस्सुम   आपका   साहब  हमारी  जान   लेता  है ।
अदालत में कभी तो जुल्म पर  कुछ फैसला होगा।।

चले  आओ   हमारी   बज़्म   में  यादें   बुलाती   हैं ।
तुम्हारा  मुन्तजिर  भी  आज  शायद  मैकदा  होगा ।।

अगर है  इश्क  ये  सच्चा  तो  फिर वो मान जायेगी । 
मुहब्बत में भला कैसे  कोई  शिकवा  गिला   होगा ।।

बड़ी  आवारगी  की  हद  से  गुजरी  है मेरी ख्वाहिश ।
तुझे  कैसे  बताऊं  इश्क  में  क्या  क्या  हुआ  होगा ।।

वो पीता छाछ को अब फूंककर  कुछ दिन से है देखा।
मुझे  लगता  है शायद  दूध  से  वह  भी  जला होगा ।।

किया था फैसला उसने जो बिककर जुल्म के हक़ में ।
खुदा   की  मार  से । यारों  वही   रोता ।मिला  होगा ।।

1222 1222 1222 1222 
  
            -- नवीन मणि त्रिपाठी

3 टिप्‍पणियां:

  1. sundar gajal navin ji badhai , akshar chhote hai font bada karen .

    उत्तर देंहटाएं
  2. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' २१ मई २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने साप्ताहिक सोमवारीय अंक के लेखक परिचय श्रृंखला में आपका परिचय आदरणीय गोपेश मोहन जैसवाल जी से करवाने जा रहा है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं